ST bus

  • पदाधिकारियों ने रखी छात्रों की समस्या

वर्धा. जिले में कक्षा 9 से 12 वीं तक की स्कूलें शुरू की गई है. इसके बावजूद भी रापनि की बस सेवा ग्रामीण विभाग में उपलब्ध नहीं होने से विद्यार्थियों को आवागमन में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. इन समस्याओं से अधिकारियों को रूबरू करने वीर भगतसिंह विद्यार्थी परिषद के पदाधिकारियों ने शुक्रवार को हिंगनघाट डिपो में दस्तक दी. इसके बावजूद भी अधिकारी चर्चा के लिए तैयार न होने से तनावपूर्ण स्थिति निर्माण हुई.

शुक्रवार को वीर भगतसिंह विद्यार्थी परिषद के सभी सदस्य बस फेरियों की गंभीर समस्या का हल करने हिंगनघाट डिपो प्रमुख से चर्चा करने पहुंचे. परंतु कार्यालय पहुंचने पर डिपो प्रमुख ने चर्चा से साफ इंकार किया. परिषद के पदाधिकारी अपनी बात पर अड़े रहे. जब तक चर्चा नहीं होगी, तब तक कार्यालय से नहीं जाने की भूमिका पदाधिकारियों ने ली. इसके बाद अधिकारी चर्चा में सहभागी हुए. जिले में कक्षा 9 से 12 वीं तक के स्कूल नियोजित समय में शुरू है. विद्यार्थियों ने पास भी निकाली है. परंतु बस गांव तक नहीं पहुंचने से विद्यार्थियों को आवागमन में काफी दिक्कतें आ रही है.

प्रमुख के आश्वासन पर मानें

विद्यार्थियों का शैक्षणिक नुकसान हो रहा है, जिस कारण सुबह व शाम दो बस फेरियां शुरू करने की मांग विद्यार्थी परिषद ने की. इस पर डिपो प्रमुख ने संबंधित गांवों में बस फेरी शुरू करने का आश्वासन दिया. उक्त समय जिला संगठक अक्षय इंगोले, जिला उपाध्यक्ष धनंजय जाधव, तहसील अध्यक्ष दिनेश काटकर, उपाध्यक्ष शुभम घोडे, पवन झोटिंग, सहसचिव भिशांत कोल्हे, गौरव गोहाडे, आशीष ढगे, धीरज गोडे, ऋषभ तड़स, योगेश गुड़धे, स्वप्नील लिहितकर, गणेश शेलके, प्रकाश येनोरकर, अक्षय कासार, प्रतीक गवरकर व पदाधिकारी मौजूद थे.