गोवंश तस्करों के खिलाफ कार्रवाई, 9 आरोपी गिरफ्तार

    • 8 वाहनों,25 मवेशी  समेत 42 लाख रुपयों का माल जब्त
    • शिरपुर थाना पुलिस की कारवाई

    यवतमाल/वणी: यवतमाल जिले के वणी तहसील के शिरपुर पुलिस थाने के दस्ते ने गोवंश तस्करी के खिलाफ बडी कारवाई को अंजाम दिया. पुलिस ने गोवंश और आठ पिकअप वाहन मिलाकर 42 लाख रुपयों का माल जब्त किया. इस दौरान गोवंश की तस्करी करनेवाले 9 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया. रविवार 23 जनवरी की रात यह कार्रवाई शिरपुर थाना क्षेत्र के चेंडकापुर फाटा से कायर मार्ग पर की गयी.

    अवैध गौवंश तस्करी करनेवाले आरोपियों में अनिल देविदास आत्राम 27 निवासी कायर तहसील वणी,सचिन महादेव थेरे 38 निवासी टूडरा, तहसील वणी अमीत गजानन पोटे 21 निवासी सुर्ला तहसील वरोरा जिला चंद्रपूर,अफजल बेग अफसर बेग 36 निवासी कायर तहसील वणी,भोलाराम सुरेश पडोले निवासी डोली तहसील वणी,विश्‍वजीत विलास ताजने  25निवासी बाबापूर तहसील वणी,अजय भारत पिदुरकर 28 निवासी सुरला तहसील वरोरा जिला चंद्रपूर,नितीन राजेद्र नरोटे 27 निवासी एरवा भारी तहसील जिवती जिला चंद्रपूर और बालाजी अरुण थोरात 27  निवासी डोगरगांव पाटण तहसील झरी जामणी का समावेश है.

    23 जनवरी को शिरुपुर थाने के एपीआय गजानन करेवाड को जानकारी मिली थी कि कुछ लोग छोटे पिकअप वाहनों में गौवंश भरकर उनको कत्तलखाने ले जाए जाने की जानकारी मिली थी. पुलिस को यह भी खबर मिली थी कि मवेशियों को शिरपुर मार्ग से आदिलाबाद ले जाया जा रहा है.

    जिसके बाद थानेदार एपीआय करेवाड ने अपने पुलिस दलबल के साथ कार्रवाई करने की योजना बनायी. वेषभूषा बदलकर दो पुलिस कर्मचारियों के साथ चेंडकापुर फाटा और शिरपुर बसस्थानक के पास निजी वाहनों से जाकर वहां पर जाल बिछाया, इसी दौरान चेंडकापुर फाटा कायर मार्ग पर 6 पीकअप वाहन और  शिरपुर बसस्थानक के सामने से गुजर रहे 2 वाहनों को पुलिस ने पकडा, इस दौरान वाहनों की तलाशी लेने पर उसमें क्षमता से अधिक मवेशियों को बडी निर्दयता से ठूंसकर और भूखे प्यासे बांधकर रखा हुआ था.

    इस दौरान मवेशियों के बारे में पूछताछ करने पर पकडे गए वाहनचालकों नें टालमटोल जवाब दिया, साथ ही इन मवेशियों से जुडे कोई दस्तावेज भी नहीं थे. इन वाहनों में 25 मवेशियों कों प्लास्टीक बोरियों और लकडीयों की पाटीयों के पीछे छुपाकर रखा गया था. इस दौरान पुलिस कर्मचारियों नें इन वाहनों को ले जा रहे उपरोक्त सभी आरोपीयों को हिरासत में ले लिया, साथ ही गोवंश के छोटे बडे कुल 25 मवेशी,8 वाहन मिलाकर 42 हजार 47 हजार का माल बरामद कर, उन्हें जब्त कर लिया.

    इस दौरान पशुवैदयकीय अधिकारीयों से मवेशीयों की जांच न करते हुए अवैधतौर पर कत्ल करने के उददेश्य से उनकी ढुलाई कर तस्करी किए जाने का मामला साफ हुआ.पुलिस ने पंचनामा कर आरोपीयों को कब्जे में लेकर माल को जब्त कर लिया. इस दौरान शिरपुर पुलिस थाने में मवेशीयों को रखने की व्यवस्था न होने से शिरपुर के पशु वैदयकीय अधिकारी डा.मंदार मराठे द्वारा मवेशीयों की जांच के बाद सभी मवेशीयों को सुरक्षा के लिहाज से अस्थायी तौर पर रासा के गोशाला में भेजा गया.

    पकडे गए आरोपीयों के खिलाफ शिरपुर पुलिस थाने में महाराष्ट्र पशु सुरक्षा अधिनीयम 1995 (सुधारीत) कलम 5(ए) पशु क्रुरता अधिनीयम 1960 की कलम 11 (डी),(ई),(एच) समेत मोटरवाहन कानू की धारा 83/177 समेत महाराष्ट्र  पुलिस अधीनियम कलम 119  के तहत अपराध दर्ज कर लिया गया. इस मामले की जांच पुलिस उपनिरीक्षक रामेश्वर कांडुरे कर रहे है, पकडे गए आरोपीयों के अलावा मवेशी तस्करी में लिप्त आरोपीयों को निष्पन्न कर उनके खिलाफ भी कारवाई करने की जानकारी पुलिस ने दी.

    मवेशी तस्करी के इस मामले को उजागर करने हुई कारवाई को जिला पुलिस अधीक्षक डा.दिलीप पाटील-भुजबल,अपर पुलिस अधीक्षक डा.खंडेराव धरणे, वणी के उपविभागीय पुलिस अधीकारी संजय पुजलवार के मार्गदर्शन में सहायक पुलिस निरीक्षक गजानन करेवाड थानेदार पुलिस थाना शिरपुर,एपीआय रामेश्वर कांडुरे,पुलिस कर्मी प्रविण गायकवाड, गंगाधर घोडाम,सुगत दिवेकर,गजानन सावसाकडे,सुनिल दुबे,अमोल कोवे,निलेश भुसे,विनोद मोतराव, विनोद काकडे,राहुल बोंडे, महिला पुलिसकर्मी पल्लवी बल्की सभी शिरपुर थाने ने अंजाम दी.