Dead Body

    पांढरकवडा. पांढरकवडा तहसील के वांजरी शिवार के जंगल में एक महिला का मृत और नग्नावस्था में शव पाया गया. इस महिला की अज्ञात आरोपी ने तिक्ष्ण हथियार से वार कर उसी हत्या करने के बाद शव नग्नावस्था में जंगल में फेंका गया.मृतक महिला के शरीर पर जख्मों के निशान थे,इसके अलावा उसका मृत शरीर नग्नावस्था में जंगल में पडा हुआ था.

    जिससे इस घटना के उजागर होते ही वांजरी शिवार समेत पांढरकवडा तहसील में हडकम्प मच गया.मृतक महिला का नाम कावेरी उर्फ कविता जलपत तोडसाम 35 निवासी कारेगांव बंडल तहसील पांढरकवडा है.10 जुन की दोपहर यह वारदात उजागर हुई. इस मामलें में आरोपी का फिलहाल पांढरकवडा पुलिस को सुराग नही मिल पाया है.

    मृतक कावेरी यह पांढरकवडा तहसील के उमरी से 8 जुन को वापस लौटने के बाद से ही लापता हो चुकी थी, जिसकी शिकायत 10 जुन पांढरकवडा पुलिस थाने में दर्ज की गयी थी.इसके बाद 10 जुन की शाम उसका मृत और नग्नावस्था में शव वांजरी शिवार के जंगल में दिखने के बाद इसकी सुचना पुलिस को दी गयी.जिसके बाद पुलिस ने मौके पर पहूंचकर घटना का जायजा लेकर पंचनामा कर शव उत्तरीय जांच के लिए रवाना किया.

    मृतक कावेरी के परिजन की शिकायत पर इस मामले में पांढरकवडा पुलिस थाने में अज्ञात आरोपी के खिलाफ हत्या का अपराध दर्ज करते हुए आगे की जांच शुरु की है.पुलिस सुत्रों के मुताबिक, इस महिला की हत्या के मामले की जांच पडताल के दौरान इसे प्राथमिक तौर पर रेप एंड मर्डर का मामला माना जा रहा है.

    हालांकी मृतक महिला के शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट फिलहाल नही मिली है,जिससे पुलिस ने उपरोक्त बात की पृष्टी नही की है,लेकिन पुलिस इस दिशा में भी जांच पडताल में जुटी हुई.एैसी जानकारी पुलिस सुत्रों ने दी.खबर लिखे जाने तक अज्ञात आरोपी का पुलिस को सुराग नही मिल पाया था.जिससे सुराग लगाने और सुबुत ईकठठा करते हुए पुलिस ने मृतक के मोबाईल के कॉल डिटेल्स और अन्य मुद्दों पर जांच केंद्रीत की है.

    पांढरकवडा पुलिस थाने में मृतक कावेरी उर्फ कविता तोडसाम की भांजे करण बंडु मरापे 23 निवासी मांगुर्डा तहसील केलापुर द्वारा दर्ज शिकायत के मुताबिक मृतक कावेरी तोडसाम यह कारेगांव बंडल निवासी थी, करण मरापे के पिता बंडु मरापे बिमार होने से उन्हे उमरी के ख्रिश्चीयन अस्पताल में दाखिल किया था, उनसे मिलने के कावेरी 8 जुन की दोपहर कारेगांव से उमरी आयी थी.

    बाद में वह अपनी पांढरकवडा में बहन से मिलने के बाद कावेरी को करण और उसकी बहन अक्षदा मरापे इन दोनों नें मिलकर शाम 4 बजे पांढरकवडा बस्थानक पर कारेगांव जाने के लिए छोडा था, लेकिन इसके बाद कावेरी रात तक कारेगांव ना पहूंचने से उसकी खोजबीन करने पर पता नही चल पाया था,जिसके बाद उसका मृतावस्था में 10 जुन को शव बरामद हुआ, मृतक कावेरी के पेट पर जखमों के और गले के आसपास भी जख्म थे, अज्ञात आरोपी ने उसकी हत्या कर शव छिपाने के लि उसे वांजरी के जंगल में फेंक दिया, इस मामलें में पुलिस ने आग की जांच पडताल शुरु की है.