तीन एकड की चने की फसल हुई नष्ट, किसान का डेढ लाख का नुकसान

    महागांव. तहसील के हिवरासंगम में किसानों को बदलते मौसम से नुकसान पहूंचा है. चना बुआई के बाद बदरीला और कोहरे भरा मौसम होने से चना फसल बिमारीयों का प्रकोप छाया हुआ है. इससे क्या रबी की फसी भी हाथ से निकल जाएंगी,एैसा डर किसानों को सता रहा है.

    क्षेत्र में अनेक किसानों का चने का पुरा प्लाट ही बुरशीजनित रोगों से नष्ट हो चुका हे, जिससे किसानों को समय से पुर्व ही फसल निकालकर फेंकने की नौबत आ चुकी है.हिवरासंगम में किसान स्वप्निल बंडु कदम इस किसान के खेत में लगभग 3 एकड का चना बिते 10 से 15 दिनों के भीतर आयी हुई बेमौसम बारिश और कुछ पैमाने पर हुई ओलावृष्टी ने नष्ट कर दी.

    इसके बाद जैसे तैसे बची फसल पर बुरशी रोग ने आक्रमण कर दिया, जिससे कदम नामक इस किसान का लाखों रुपयों का नुकसान होने से वह हताश हो चुका है. रबी फसल सत्र में चना फसल 100 फिसद बर्बाद होने की यह पहला मौका माना जा रहा है, जिससे सरकार की ओर से नुकसानग्रस्त किसानों को आर्थिक मदद देने की मांग जोर पकडने लगी है.