jawad

    नयी दिल्ली/ओडिशा.  एक तरफ साइक्लोन जवाद (Cyclone Jawad) के आज शनिवार को उत्तरी आंध्र प्रदेश में पहुंचने की संभावना के बीच यहाँ की राज्य सरकार ने तीन जिलों से 54,008 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहले ही पहुंचा दिया है।  वहीं ‘जवाद’ की व्यापकता को देखते हुए ओडिशा के 19 जिलों में स्कूल और जन शिक्षा विभाग से संबद्ध सभी सरकारी, सहायता प्राप्त तथा निजी स्कूल आज बंद रखने  का आदेश पारित किया है। 

    जी हाँ, आने वाले चक्रवाती तूफान ‘जवाद’ को देखते हुए ओडिशा सरकार ने राज्य के 19 जिलों में स्कूलों को बंद रखने का भी अंतरिम आदेश दिया है।  इसके चलते अब ओडिशा के 19 जिलों में विभाग से संबद्ध सभी सरकारी, सहायता प्राप्त और निजी स्कूल चक्रवात ‘जवाद’ के मद्देनजर 4 दिसंबर को बंद रहेंगे। बता दें कि जिन 19 जिलों में स्कूल बंद रहेंगे उनमें गंजम, गजपति, पुरी, नयागढ़, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, कोरापुट, रायगडा, कटक, खोरधा, कंधमाल, क्योंझर, अंगुल, ढेंकनाल, बालासोर, भद्रक, जाजपुर, मलकानगिरी और मयूरभंज शामिल हैं।

    उधर भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार, चक्रवात ‘जवाद’ आज यानी शनिवार सुबह उत्तरी आंध्र प्रदेश और दक्षिण ओडिशा तक पहुंचने की संभावना है और पुरी में आगामी रविवार को भारी बारिश होने की भी प्रबल संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार, चक्रवात जवाद शुक्रवार की शाम 5:30 बजे पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी, विशाखापत्तनम से लगभग 300 किमी दक्षिण-पूर्व, गोपालपुर से लगभग 420 किमी, पुरी के 480 किमी दक्षिण-दप और पश्चिम-मध्य में केंद्रित था। 

    इसके साथ ही मौसम विभाग ने आगाह किया कि निचले इलाकों के लोगों को जल्द ही सुरक्षित जगहों पर रहना चाहिए।  क्योकि चरवात के चलते भूस्खलन होने की संभावना है।  वहीं IMD की मानें तो चक्रवाती तूफान की वजह से उत्तर तटीय आंध्र प्रदेश के अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश या गरज के साथ बौछारें पड़ने की भी प्रबल संभावना है।  साथ ही मछुआरों को भी समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गयी है क्योंकि बंगाल की खाड़ी के ऊपर 90 से 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने की भी आज प्रबल संभावना है।