Jai Bhim

    चेन्नई. वन्नियार समुदाय के एक संगठन ने सूर्या अभिनीत फिल्म ‘जय भीम’ में समुदाय का कथित रूप से गलत चित्रण करने के लिए मंगलवार को अभिनेता, निर्देशक और ओटीटी प्लेटफॉर्म के खिलाफ एक स्थानीय अदालत का रुख किया। वन्नियार समुदाय के संगठन ‘वन्नियार संगम’ ने दो समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने, समुदाय को बदनाम करने समेत दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) और भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की विभिन्न धाराओं के तहत कुड्डालोर जिले के चिदंबरम में एक स्थानीय अदालत के समक्ष मुकदमा दायर कराया और कार्रवाई का अनुरोध किया।

    ‘वन्नियार संगम’ के अध्यक्ष पुथा अरुलमोझी ने न्यायिक मजिस्ट्रेट, चिदंबरम के समक्ष निर्माता सूर्या और उनकी पत्नी ज्योतिका, प्रोडक्शन हाउस 2 डी एंटरटेनमेंट, फिल्म के निर्देशक टी जे ज्ञानवेल और ओटीटी प्लेटफॉर्म अमेजन के खिलाफ मुकदमा दायर किया है।

    तमिलनाडु में ‘वन्नियार संगम’ और समुदाय के सदस्यों ने तमिल और तेलुगू भाषाओं में एक नवंबर को रिलीज हुई ‘जय भीम’ पर आरोप लगाया कि इसमें समुदाय का गलत चित्रण किया गया है।

    फिल्म को ओटीटी प्लेटफॉर्म अमेजन-प्राइम वीडियो में रिलीज किया गया था। ‘वन्नियार संगम’ ने 15 नवंबर को ‘जय भीम’ के निर्माताओं को एक कानूनी नोटिस भेजा था, जिसमें आरोप लगाया गया था कि फिल्म ने वन्नियार समुदाय की प्रतिष्ठा को धूमिल किया है और उनसे पांच करोड़ रुपये के हर्जाने के अलावा बिना शर्त माफी की मांग की थी। (एजेंसी)