Siddaramaiah

Loading

बेंगलुरू: कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धरमैया (CM Siddaramaiah) ने पिछले कुछ दिनों में बारिश की कमी के कारण कुछ स्थानों पर गंभीर पेयजल संकट के मद्देनजर सोमवार को एक बैठक की अध्यक्षता की जिसमें उन्होंने संबंधित जिला प्रशासन को लोगों की पेयजल से संबंधित चिंताओं को कम करने के लिए तत्काल उपाय करने का निर्देश दिया।

मुख्यमंत्री ने इस संबंध में राज्य के बीदर, कलबुर्गी, यादगीर, रायचूर, कोप्पल, बेल्लारी, दक्षिण कन्नड़ और उडुपी जिलों के जिला प्रशासन के साथ वीडियो कॉन्फ्रें के जरिए एक बैठक की और इन आठ जिलों में जल जीवन मिशन की प्रगति की समीक्षा की। जल जीवन मिशन केंद्र द्वारा शुरू की गई एक योजना है जिसका उद्देश्य प्रत्येक ग्रामीण परिवार को नियमित और दीर्घकालिक आधार पर पर्याप्त मात्रा में किफायती सेवा वितरण शुल्क पर निर्धारित गुणवत्ता के पेयजल की आपूर्ति प्रदान करना है ताकि गांवों में रहने वाले लोगों के जीवन स्तर में सुधार किया जा सके।

मुख्यमंत्री कार्यालय ने एक विज्ञप्ति में कहा, ‘‘ प्रदेश में मानसून की शुरुआत 10 जून से हो चुकी है। प्राप्त जानकारी के अनुसार एक से 11 जून तक प्रदेश में सामान्य से कम बारिश हुई है। बारिश में 67 फीसदी की कमी है। मौसम विभाग ने आने वाले दिनों में बारिश सामान्य रहने का अनुमान जताया है।” 

विज्ञप्ति के मुताबिक लेकिन पिछले कुछ दिनों में बारिश की कमी के कारण सरकार ने कुछ जिलों में पेयजल की गंभीर समस्या पर ध्यान दिया है। कर्नाटक के 15 जिलों के 322 गांवों में टैंकरों से पेयजल उपलब्ध कराया जा रहा है और 148 गांवों में निजी बोरवेल किराए पर लिए जा रहे हैं। अधिकारियों के मुताबिक मुख्यमंत्री ने बैठक के दौरान जिला प्रशासन से कहा कि पेयजल की समस्या का गंभीरता से समाधान किया जाए और समस्या होने पर 24 घंटे के भीतर पानी उपलब्ध कराने की कार्रवाई की जाए।