नीतीश कुमार (Photo Credits)
नीतीश कुमार (Photo Credits)

    पटना: बिहार के गोपालगंज में जहरीली शराब का कहर जारी है। अब तक इससे 25 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं कइयों का इलाज अस्पताल में जारी है। इसी के साथ कुछ लोगों की आँखों की रौशनी भी चल गई है। वहीं इस मामले पर मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने पहली बार अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने लोगों में शराब बंदी के प्रति जागरूकता बढ़ाने की बात करते हुए कहा कि, “नकली शराब बनाने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।”

    मुख्यमंत्री ने कहा, “मैं बार-बार कहता रहा हूं कि अगर आप गलत चीज का सेवन करेंगे तो यह स्थिति हो जाएगी। मैं अधिकारियों से बात करता रहता हूं लेकिन त्योहार के बाद हम एक विस्तृत समीक्षा करेंगे।”

    उन्होंने आगे कहा, “लोगों को यह बताने के लिए एक बार फिर से अभियान शुरू करना बहुत जरूरी है कि शराब खराब है और शराबबंदी लागू है। ऐसे लोगों (नकली शराब बनाने वाले) के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी और यह किया जाएगा। अभी भी एक व्यापक अभियान की जरूरत है। हम त्योहार के बाद इसकी समीक्षा करेंगे।”

    स्थानीय स्तर हुई लापरवाई 

    वहीं इस मामले पर राज्य सरकार में मंत्री सुनील कुमार ने कहा, “पुलिस अधिकारियों ने मौके का मुआयना किया है। कई जगहों पर छापेमारी की जा रही है, कुछ लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है। मैं स्वीकार करता हूं कि स्थानीय स्तर पर कुछ लापरवाही के कारण यह घटना हुई। दोनों थाना प्रभारी सस्पेंड, 1 गार्ड भी सस्पेंड।”

    उन्होंने कहा, “शराबबंदी के बाद से हमने कई कड़े कदम उठाए हैं। अब तक 187 लाख लीटर से अधिक शराब जब्त की गई, 3 लाख से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया और लगभग 60,000 वाहन जब्त किए गए। हम सरकारी अधिकारियों सहित सभी पर कार्रवाई कर रहे हैं। अब तक 700 से अधिक अधिकारी निलंबित।”

    ज्ञात हो कि, तीन नवंबर से उत्तर बिहार के पूर्व चंपारण, गोपालगंज और मुजफ्फरनगर में जहरीली शराब का कहर जारी है। अभी तक इससे 25 लोगों की मौत हो चुकी है, वहीं कईयों का इलाज अस्पताल में जारी है। मरने वालों में नौ लोग चंपारण और 16 गोपालगंज जिले के हैं। इसी के साथ मुजफ्फरनगर में कई लोगों की आखो की रौशनी चली गई है जिनका इलाज अस्पताल में चल रहा है