एक बार फिर अंबरनाथ शहर में पूर्ण लॉकडाउन, व्यापारियों में असंतोष

    अंबरनाथ. शहर की मौजूदा स्थिति को देखकर पिछले साल की याद आ रही है, पिछले वर्ष मार्च महीने में ही यह स्थिति पैदा हुई थी। कोरोना (Corona) के बढ़ते प्रादुर्भाव को देखते हुए 22 मार्च से पूरे देश में लॉकडाउन (Lockdown) घोषित कर दिया गया और अचानक सब कुछ रुक गया। ठीक उसी तरह इस बार भी मंगलवार से शहर में अचानक लॉकडाउन जैसी स्थिति बन गई है।

    पुलिस प्रशासन (Police Administration) ने मंगलवार की सुबह ही अचानक अत्यावश्यक सेवाओं को छोड़कर शहर की सभी दुकानों (Shops) को बंद (Close) करा दिया। पिछली बार कुछ सामाजिक, राजनीतिक संघटनों और कुछ लोगों ने व्यक्तिगत रूप से जरूरतमंद लोगों की मदद की, लेकिन इस बार उसकी भी उम्मीद नहीं है। कोरोना के दूसरे दौर ने एक बार फिर से महाराष्ट्र में भूचाल मचा दिया है, इसलिए सरकार के लिए एक बार फिर से लॉकडाउन लागू करने की नौबत आ गई है, लेकिन अचानक तालाबंदी से व्यापारियों और आम जनता में असंतोष फैल गया है।

    दुकानदारों और पुलिस के बीच मौखिक विवाद        

     नए आदेश के अनुसार, सोमवार को रात 8 बजे के बाद, अंबरनाथ शहर में पुलिस ने दुकानों को बंद करने और नागरिकों को घर भेजने के अपने प्रयास शुरू किए और कुछ ही देर में पूरा शहर शांत हो गया। फिर मंगलवार को पुलिस ने आवश्यक सेवाओं को छोड़कर शहर की सभी दुकानों को बंद करने के लिए मजबूर कर दिया। इससे कुछ समय के लिए व्यापारियों, दुकानदारों और पुलिस के बीच मौखिक विवाद भी हुआ।  कलेक्टर द्वारा आदेश दिए गए अचानक लॉकडाउन ने व्यापारियों और आम जनता में बहुत चिंता और असंतोष पैदा किया है।