मनीषा वालेकर ने मुफ्त एम्बुलेंस की सुविधा मुहैया कराई

अंबरनाथ. कोरोना के कारण केंद्र और राज्य सरकार के सबंधित महकमे, नपा, मनपा, जिला परिषद, पुलिस, अस्पताल कर्मियों आदि को ही लोकल ट्रेन में यात्रा करने की अनुमति है. 11 वर्षीय एक दिव्यांग बच्चे की मां अपने बीमार विकलांग बच्चे को मुंबई इलाज के लिए ले जा सके इसलिए स्थानीय स्टेशन के विगत 3 दिन से चक्कर काट रही थी. रविवार की सुबह शिवसेना के एक मोर्चे के साथ आई शिवसेना शहर प्रमुख अरविंद वालेकर की पत्नी और नपा की पूर्व अध्यक्ष मनीषा वालेकर को जब यह बात ज्ञात हुई तो उन्होंने उक्त मांग को लेकर स्टेशन प्रबंधन से बात की, तो उन्होंने नियम में यह सुविधा देने में असमर्थता दिखाई. इसके बाद वालेकर ने तत्काल एम्बुलेंस उपलब्ध कराकर इंसानियत का परिचय दिया.

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने नौकरी करने वाली  महिलाओं को ट्रेन से यात्रा करने की अनुमति देने की मांग रेलवे मंत्रालय से की है, लेकिन केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने फिलहाल ऐसा करने से मना कर दिया है. स्थानीय कमलाकर नगर निवासी प्रिया मुरुगन नामक महिला विगत 3 दिन से अपने बीमार बच्चे को अस्पताल ले जाने के लिए ट्रेन का टिकट मांग रही थी, लेकिन रेलवे प्रशासन उसे टिकट देने के लिए तैयार नहीं हुआ. 

लोकल ट्रेन में महिलाओं को सफर करने की सुविधा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की मांग को रेल मंत्रालय द्वारा अस्वीकार किए जाने का विरोध दर्शाने के लिए रविवार की सुबह स्थानीय स्टेशन पर शिवसेना ने विरोध प्रदर्शन किया. स्टेशन पर ही संबंधित महिला ने जब अपना दुखड़ा मनीषा वालेकर को सुनाया तो उन्होंने स्टेशन प्रबंधक से बात की, लेकिन वर्तमान समय में सुविधा बंद होने की जानकारी उन्होंने दी. बिना समय गंवाए वालेकर ने एम्बुलेंस मुहैया करा दी.आखिर 3 दिन के बाद दिव्यांग बेटे को लेकर प्रिया मुरुगन मुंबई अस्पताल के लिए अंबरनाथ से निकली.