wardha

  • कपास की फसल जमीनध्वस्त, वृक्ष धराशायी, बिजली तार टूटी

साहूर. लौटती बारिश ने किसानों के नाक में दम कर रखा है़ शनिवार की शाम साहुर परिसर में हुई तूफानी बारिश ने कहर बरपाया़ कपास की लहलहाती फसल जमीनध्वस्त हो गई़ तो विशालकाय वृध्द धराशायी हुए़  परिसर में बिजली के तार टूटने से बिजली आपूर्ति खंडीत हो गई थी़ 

इस बार सोयाबीन का बुआई क्षेत्र बढा था़ परंतु बिमारी, बोगस बीज व इल्लियो के चपेट में आने से फसल पुर्णत: चौपट हो गई़ इससे किसानों में निराशा छायी है़ अब किसानों की उम्मीद कपास की फसल पर टिकी है़ परंतु लौटती बारिश ने किसानो की चिंता बढा दी़ साहुर परिसर में शनिवार की शाम हुई तूफानी बारिश से बडी मात्रा में कपास की फसल बर्बाद हो गई़  कुछ खेतों में कपास की वेचाई चल रही है, परंतु बारिश के कारण किसान त्रस्त हो गया है़ तूफानी बारिश से तारासावंगा परिसर में सर्वाधिक नुकसान हुआ है़ खेत शिवार में विशालकाय वृध्द धराशायी हो गए़ तो बिजली के तार टूटने की जानकारी है़ कपास की फसल का भारी नुकसान हुआ है़ प्रशासन नुकसान क्षेत्र का सर्वे कर किसानो को आर्थिक राहत प्रदान करें, ऐसी मांग हो रही है़