उडी सरकारी निर्देशों की धज्जीयां, उमडी शिक्षकों की भिड

  • बुधवार को हुई तबादलों पर सुनवाई
  • ढाई घंटे देरी शुरू हुई सुनवाई, शिक्षक हुये नाराज

वर्धा. जिला परिषद के अंतर्गत कार्यरत शिक्षकों के तबादले के लेकर बुधवार को जिप सभागार में सुनवाई हुई.किंतु सुनवाई के दौरान कोरोना के चलते सरकार व प्रशासन ने दिये निर्देशों की सरेआम धज्जीयां उडी. दरमियान राज्य सरकारने आज आदेश निकालकर शिक्षकों के प्रशासनिक तबादलों पर रोक लगाई. जिससे शिक्षकों ने राहत की सांस ली है.अब केवल शिक्षकों के बिनंती तबादले ही होंगे.

राज्य सरकार ने सन 2020-2021 सत्र के दौरान जिला परिषद प्राथमिक स्कूल में कार्यरत शिक्षकों की जिलास्तर तथा आंतर जिलास्तर पर तबादले करने के आदेश दिये गये थे.जिसके चलते शिक्षकों को ऑनलाईन आवेदन करने की सुचना दी गई थी.परिणामस्वरूप शिक्षकों ने ऑनलाईन आवेदन किये.जिसकी सुची मंगलवार को जारी कर अपनी आपत्ती दर्ज करने के लिये कहां गया था. तथा बुधवार 5 अगस्त को सुबह 11 बजे आपत्ती पर जन सुनवाई होनी वाली थी.नतिजन जिलें भर से शिक्षक आज सुबह जिला परिषद में पहुंचे.शिक्षा विभाग ने 11 बजे का समय देने के बावजूद अधिकारी करीब एक बजे तक नही पहुंचे.

जिससे जिप परिसर में शिक्षकों की भिड जमा होने के कारण सामाजिक दुरी की धज्जीयां उडी.शिक्षकों ने तबादले की प्रक्रिया को लेकर आपत्ती जताने की जानकारी है.तो कुछ स्वंय घोषित शिक्षक नेतायों ने अपना उल्लू सिधा करने का प्रयास किया.किंतु उनके इस प्रयास को सरकार के एक आदेश ने जोर का झटका लगाया. ग्रामविकास विभाग के कक्ष अधिकारी सं.ना.भंडारकर ने बुधवार को एक आदेश जारी कर प्रशासनिक तबादले पर रोक लगाकर केवल बिनंती तबादले करने के आदेश दिये.सरकार के इस निर्णय से कुछ शिक्षकों ने राहत की सांस ली तो नेतागिरी करनेवाले  शिक्षकों के चहेरे पर मायुसी साफ झलक रही थी.