हॉकी इंडिया ने टूर्नामेंट अधिकारियों और अंपायरों के मूल्यांकन मानदंडों में संशोधन कि

नई दिल्ली. हाकी इंडिया ने टूर्नामेंट के अधिकारियों और अंपायरों के मूल्यांकन मानदंडों में संशोधन किये हैं जो अधिकारियों की प्रदर्शन रिपोर्ट ढांचे में बदलाव का हिस्सा है। यह रिपोर्ट घरेलू टूर्नामेंट में टूर्नामेंट अधिकारियों और अंपायरों के कार्यों के आकलन करने का सबसे कारगर तरीका है। हाकी इंडिया ने मई में हाकी इंडिया के पंजीकृत टूर्नामेंट अधिकारियों का वर्गीकरण करने की शुरुआत की घोषणा की थी जिसमें तकनीकी प्रतिनिधि, अंपायर मैनेजर, तकनीकी अधिकारी, जज और अंपायरों के तीन ग्रेड शामिल थे।

ग्रेडिंग 100 (प्रतिशत के आधार पर) में से की जाएगी जिसमें अंपायरों की प्रदर्शन रिपोर्ट (सभी घरेलू टूर्नामेंटों), फिटनेस परीक्षण परिणाम और ऑनलाइन परीक्षा परिणाम पर मुख्य रूप से ध्यान दिया जाएगा जबकि अन्य अधिकारियों के लिये सभी घरेलू टूर्नामेंटों की प्रदर्शन रिपोर्ट और ऑनलाइन परीक्षा के परिणाम पर आधारित होगी। अंपायरों का प्रदर्शन का आकलन अब प्रत्येक मैच में किया जाएगा तथा अंपायर मैनेजर संबंधित मैचों के पूरे होने के बाद उनके प्रदर्शन की रिपोर्ट अंपायरों और हाकी इंडिया को सौंपेंगे।(एजेंसी)