Japan's big decision before Olympics, extended period of emergency imposed due to Corona
File Image: Twitter

    तोक्यो: तोक्यो (Tokyo) तथा अन्य इलाकों में कोरोना वायरस (Corona Virus) संक्रमण की रफ्तार अभी इतनी कम नहीं हो पाई है कि देश में लगभग 50 दिन बाद होने जा रहे ओलंपिक (Tokyo Olympic) का सुरक्षित तरीके से आयोजन किया जा सके। इसलिए जापान कोरोना वायरस आपातकाल (Emergency) की अवधि को बढ़ाने जा रहा है। आर्थिक पुनरुद्धार मंत्री यासुतोषी निशिमुरा ने बताया कि खासकर तोक्यो और ओसाका में लोग सार्वजनिक रूप से घूम रहे हैं और ऐसा अंदेशा है कि, आपातकाल खत्म करने पर संक्रमण तेजी से फैल सकता है इसलिए पाबंदियों की अवधि में विस्तार करना आवश्यक है।

    देश की राजधानी तथा आठ अन्य महानगरों में अगले सोमवार को आपातकाल समाप्त होने वाला था कुछ इलाकों में अस्पताल अभी भी कोविड-19 मरीजों से भरे हुए हैं और हाल के दिनों में कोरोना वायरस के गंभीर मामलों की संख्या भी बहुत अधिक बढ़ गई है। निशिमुरा ने संवाददाताओं को बताया कि नौ इलाकों में आपातकाल की अवधि में बीस दिन का विस्तार करके इसे 20 जून तक बढ़ाने को विशेषज्ञों की शुरुआती मंजूरी मिल गई है। इस तारीख तक ओलंपिक के आयोजकों को यह तय करना होगा कि इसमें प्रशंसकों को शामिल होने की इजाजत दी जाए अथवा नहीं। ओलंपिक 23 जुलाई से शुरू होने जा रहे हैं। महामारी के कारण इनमें पहले ही एक वर्ष का विलंब हो चुका है। 

    कोरोना वायरस के नए स्वरूपों को लेकर बनी चिंता तथा जापान में टीकाकरण की धीमी रफ्तार के चलते जनता और चिकित्सा विशेषज्ञों की ओर से ओलंपिक खेलों को रद्द करने की मांग उठ रही है। वैसे प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा और उनकी सरकार ओलंपिक खेलों के आयोजन को लेकर मन बना चुके हैं।

    अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने भी कहा है कि आयोजन जरूर होगा भले ही मेजबान तोक्यो शहर में आपातकाल पाबंदियां जारी रहें। जापान में संक्रमण के 7,30,000 मामले हैं तथा 12,700 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।