आतिश तासीर के OCI कार्ड बहाल करने की मांग जोरों पर, 260 हस्तियां का समर्थन

नई दिल्ली, ख़बरों के मुताबिक लेखक और पत्रकार आतिश अली तासीर का ओसीआई(ओवरसीज सिटीजनशीप ऑफ इंडिया) कार्ड निलंबीकरण के मुद्दे पर अब करीब 260 हस्तियां विरोध पर उतर आयी हैं। इसमें ओरहान पामुक, मार्गरेट

नई दिल्ली, ख़बरों के मुताबिक लेखक और पत्रकार आतिश अली तासीर का ओसीआई(ओवरसीज सिटीजनशीप ऑफ इंडिया) कार्ड निलंबीकरण के मुद्दे पर अब करीब 260 हस्तियां विरोध पर उतर आयी हैं। इसमें ओरहान पामुक, मार्गरेट एटवुड, सलमान रुश्दी और अमिताव घोष जैसे दिग्गज और कद्दावर लेखक भी शामिल हैं. सूत्रों का कहना है कि इन हस्तियों ने अपने खुले पत्र में आतिश अली तासीर पर हुई कार्यवाही का पुरजोर विरोध किया है. इस पत्र में इन बुद्धिजीविओं ने आतिश अली को लक्ष्य बनाये जाने पर चिंता दिखाई है और साथ ही भारत सरकार से ओसीआई कार्ड को बहाल करने की भी मांग की है. पेन अमेरिका की ओर से प्रकाशित पत्र में इन लोगो का ये मानना है कि भारत सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कवरेज के लिए आतीश तासीर के खिलाफ ‘संभावित जवाबी कार्रवाई’ बदले की भावना से कर रही है. 

यह भी पढ़ें:मोदी पर विवादस्पद लेख लिखने वाले आतिश अली तासीर का OCI कार्ड रद्द, हुआ विवाद

क्या है आतिश तासीर का ओसीआई कार्ड मामला 

असल में सात महीने पहले देश में हुए आम चुनावों के दौरान आतीश तासीर ने अमरीका की प्रतिष्ठित पत्रिका ‘टाइम’ के इस साल के मई अंक में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर एक लेख लिखा था.पत्रिका के 20 मई 2019 वाले अंतरराष्ट्रीय संस्करण के कवर पेज पर छपे उस लेख के शीर्षक में नरेंद्र मोदी की तस्वीर के साथ ‘India’s Divider In Chief (महाविभाजनकारी)’ लिखा गया था. इस लेख को लेकर भारत में काफ़ी विवाद भी हुआ था. वहीं चुनाव परिणामों के आने के बाद तत्काल क्षतिपूर्ति के लिए टाइम मैगजीन ने एक रिपोर्ट जारी की, जिसका शीर्षक था, ‘मोदी ने भारत को इतना एकजुट किया, जो कि दशकों में कोई प्रधानमंत्री नहीं कर सका.’ विदित हो की भारत के गृह मंत्रालय ने ये कहते हुए आतिश का ओसीआई दर्जा ख़त्म कर दिया जिसका का प्रमुख कारण है कि उन्होंने ये बात "छिपाई कि उनके पिता पाकिस्तानी मूल के थे".जिसके कारण ओसीआई कार्ड के लिहाज से उन्हें अयोग्य कर दियाथा क्योंकि यह कार्ड ऐसे किसी व्यक्ति को जारी नहीं किया जाता जिसके माता-पिता या दादा-दादी पाकिस्तान से हों और उस व्यक्ति ने इस संबंध में जानकारी छुपाया हो. हालाँकि आतीश तासीर ने इसको पुरजोर विरोध किया था.

क्या है ओसीआई कार्ड

आपको बता दें कि ओसीआई कार्ड मूलतः भारतीय मूल के विदेशी लोगों को भारत आने, यहां रहने और काम करने का अधिकार देता है. हालांकि, उन्हें वोट देने और संवैधानिक पद प्राप्त करने जैसे कुछ अन्य अधिकार नहीं होते.भारतीय मूल के लोगों (पीआईओ) को ओसीआई (विदेश में रहने वाले भारतीय) कार्ड दिया जाता है.

वहीँ ओरहान पामुक, मार्गरेट एटवुड, सलमान रुश्दी और अमिताव घोष के अलावा ओसीआई कार्ड बहाल करने का अनुरोध करने वाले लेखकों में चिमांडा अडीछी, क्रिस्टीन अमानपोर, माइकल चाबोनस जॉन कोएत्जी, झुंपा लाहिरी, सुकेतु मेहता और मालिन सुरी शामिल हैं. विदित हो की ब्रिटेन में जन्मे आतीश तासीर भारतीय पत्रकार तवलीन सिंह और पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के दिवंगत गवर्नर सलमान तासीर के बेटे हैं.