China wants Jack Ma’s Alibaba to shed media assets

    बीजिंग: चीन की कम्युनिस्ट सरकार के खिलाफ जिसने भी आवाज उठाई है, उसे उसकी भारी कीमत चुकानी पड़ी है। वर्तमान में ताजा उदहारण अलीबाबा के प्रमुख जैक मा हैं, जिनको शी जिनपिंग की सरकार की आलोचना करना बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ी है। एक ओर जहां जैक मा लगातार गायब हैं, वहीं उनकी उनकी कंपनी को 25 लाख करोड़ से ज्यादा रुपए का घटा हो चूका है। 

    ज्ञात हो कि, पिछले साल मार्च में जैक मा ने चीन के फाइनेंशियल सिस्टम की आलोचना करते हुए इसे लोगों से पैसे छीनने वाला सिस्टम बता दिया था। मा के इस बयान  से उनका बुरा वक़्त शुरू हो गया था। चीनी सरकार ने उनके अलीबाबा ग्रुप पर बाजार में एकाधिकार करने की जाँच शुरू कर दी। इसी के साथ उनकी कंपनी पर 2.8 मिलियन यूएस डॉलर का जुर्माना भी लगाया था। 

    पिछले डेढ़ साल से गायब है जैक मा 

    चीन के वित्तीय नियामकों और सरकारी बैंकों की आलोचना करने के बाद से ही जैक मा गायब है। वह न मीडिया में दिख रहे हैं और न ही कंपनी के किसी कार्यक्रम में। बीते दिनों मिली जानकारी के अनुसार, मा एक साल से हांगकांग में रह रहे हैं। इस दौरान उन्होंने विदेश का दौरा भी किया है। 

    कंपनी की वैल्यू में भारी गिरावट 

    पिछले एक साल में जैक की कंपनी अलीबाबा की वैल्यू में भारी गिरावट सामने आई है। ब्लूमर्ग के मुताबिक कंपनी के बाजार पूंजी में करीब 344 बिलियन डॉलर की गिरावट हुई है। जो अब तक हुई किसी भी कंपनी की सबसे ज्यादा है