जिलाधिकारी, एसपी आर्णी के प्रतिबंधित क्षेत्र में ‘ऑनफिल्ड’

यवतमाल. शुरुवात में शहरी क्षेत्र का कोरोना वायरस का संक्रमण अब जिले के ग्रामीण क्षेत्र में पहुंच गया है. यह चिंता का विषय है. जिससे समूचा प्रशासन च्हाइ अलर्टज् रहकर कार्य कर रहा है. आर्णी में पाजिटिव मरीज पाए जाने से जिलाधिकारी एम. डी. सिंह, पुलिस अधीक्षक एम. राजकुमार ने 22 जून को आर्णी के प्रतिबंधित क्षेत्र में प्रत्येक्ष जाकर हालातों की समीक्षा की. आर्णी के प्रतिबंधित क्षेत्र में 80 परिवार है यहां की जनसंख्या 369 है. इस क्षेत्र में पाए गए पाजिटिव मरीज के निकटतम संपर्क के (हाइ रस्कि कान्टक्ट) सात लोगों को और नजदिकी संपर्क के (लो रस्कि कान्टक्ट) 46 लोगों के सैंपल परीक्षण के लिए भेजे गए है. इस प्रतिबंधित क्षेत्र में और भी 50 लोगों के सैंपल जल्द परीक्षण के लिए भेजने की सूचना जिलाधिकारी ने की है.

इस क्षेत्र के लिए स्वास्थ्य विभाग के तीन दल कार्यरत होकर एक फिवर क्लिनिक भी शुरू किया गया है. स्वास्थ्य दल की सहायता से नागरिकों की पल्स ऑक्सीमीटर व थर्मल स्कॅनर से जांच की जा रही है, जांच पूरी तरह सावधानी से करने के स्पष्ट नर्दिेश जिलाधिकारी ने दिए है. तथा आर्णी के उपविभागीय अधिकारी अनिरुध्द बक्षी, तहसीलदार धीरज स्थूल व समूची स्वास्थ्य यंत्रणा 24 बाय 7 कार्यरत हैं.

नागरिकों को भी सरकार एवं प्रशासन द्वारा जारी सभी सूचनाओं का पालन कडाई से करने का आवाह‍्न करते हुए बेवजह से घर से बाहर न निकलने, जिवनावश्यक चीजों की खरीदी के लिए निकलने पर सोशल डस्टिन्सिंग, मास्क का इस्तमाल आवश्यक करें. बार-बार साबून से हाथ धोये या सैनिटाइजर से हाथ साफ करें. कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए नागरिकों को प्रशासन से सहयोग करने का आवाह‍्न जिलाधिकारी एम. डी. सिंह ने किया है. इस समय जिला शल्य चिकत्सिक डा. तरंगतुषार वारे, उपविभागीय अधिकारी अनिरुध्द बक्षी, तहसीलदार धीरज स्थूल आदि उपस्थित थे.