जलापूर्ति : प्रशासन, ठेकेदार गंभीर नहीं सभापति ने की शिकायत

वणी. नगर परिषद के जलापूर्ति ठेकेदार एवं नप प्रशासन की कार्यप्रणाली को लेकर जलपूर्ति सभापति नितिन चहाणकर ने सवाल उठाया है. उन्होंने जिलाधिकारी से शिकायत कर कहा है कि लॉकडाउन के दिनों में जलपूर्ति के ठेकेदार व्दारा जानबूझकर जलापूर्ति का संकट तैयार किया जा रहा है एवं नप प्रशासन इस ओर अनदेखी कर रहा है. जिलाधिकारी को लिखे पत्र में सभापति ने कहा है कि अनियमित जलापूर्ति को लेकर पिछले कई दिनों से नागरिकों एवं पार्षदों की शिकायतें आ रही हैं.

किया निरीक्षण
उक्त जलापूर्ति के संबंध में शिकायत मिलने के बाद पिछले दिनों उन्होंने कुछ पार्षदों के साथ वाटर वर्क्स का निरीक्षण भी किया था. इस दौरान वहां पर अनियमितता पाई गई. ठेकेदार से पूछताछ करने पर गलत जानकारी दी गई. सभापति ने आरोप लगाया कि निगम के कुछ अधिकारी और कर्मचारी ठेकेदार से मिलीभगत कर निगम को आर्थिक क्षति पहुंचा रहे हैं.

दोषियों पर हो कार्रवाई
उन्होंने इस मामले में दोषियों पर कार्रवाई की मांग की है. ठेकेदार ने 20 मई से काम बंद करने की चेतावनी दी है जो की अप्रत्यक्ष रूप से नगर परिषद को धमकी है. इस संबंध में नगर परिषद के मुख्याधिकारी संदीप बोरकर ने बताया कि 20 मई से काम बंद करने के संबंध में कोई भी पत्र नहीं मिला है. उन्होंने कहा की ठेकेदार व्दारा काम बराबर शुरू है. नागरिको की शिकायतें नहीं है. बिजली बार-बार खंडित होने से उसका असर जलपूर्ति पर हो रहा.