college students
File Photo

    • उच्च एवं शिक्षा मंत्री सामंत की जानकारी

    अमरावती. निजी इंजीनियरिंग कालेजों की फीस में रियायत देने के लिए सरकार ने एक समिति गठित की है. जल्द ही छात्रों और अभिभावकों को अच्छी खबर देने की जानकारी उच्च शिक्षा राज्य मंत्री उदय सामंत ने शनिवार को प्रेस वार्ता में दी है. उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग की समीक्षा के बाद उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के चलते फिलहाल कॉलेज शुरू करने की कोई नियोजन नहीं है. जब तक कोरोना पुरी तरह नहीं जाता, तब तक फिजीकली कॉलेज शुरू करने का फैसला नहीं लेने की बात उन्होंने कही. 

    जबरन फीस वसूली पर समिति

    कोरोना संक्रमण के चलते कॉलेज बंद है. छात्र कॉलेज नहीं आ रहे हैं, लेकिन उनकी ऑनलाइन पढ़ाई जारी है. सामंत ने कहा कि शिकायतें मिली हैं कि निजी इंजीनियरिंग कॉलेज ऑनलाइन कक्षाएं संचालित करने के बावजूद छात्रों से जबरन फीस वसूल रहे हैं. इसलिए सरकार ने निजी इंजीनियरिंग कॉलेजों द्वारा वसूल की जाने वाली फीस पर नियंत्रण के लिए एक कमेटी का गठन किया है. इस कमेटी की बैठक भी हो चुकी है. समिति जल्द ही शुल्क रियायत पर फैसला लेगी. कॉलेज परीक्षाओं को लेकर संबंधित जिले के कलेक्टर वहां की कोरोना स्थिति को देखते हुए निर्णय लेंगे. 

    शिक्षकेतर कर्मियों के पद भरेंगे

    विश्वविद्यालयों में बड़ी संख्या में पद रिक्त हैं. शिक्षकेतर कर्मचारी भरती को लेकर वित्त विभाग को प्रस्ताव भेजा गया है. वित्त विभाग की मंजूरी के बाद आउटसोर्सिंग से पदों को भरा जाएगा. गोपनीय विभाग में आउटसोर्सिंग से पद भरने को लेकर जांच की जाएगी. सामंत ने कहा कि नियमित पदों को स्थिति के अनुसार भरा जाएगा. पत्र वार्ता में जिलाधीश शैलश नवाल, पूर्व विधायक प्रा. श्रीकांत देशपांडे, शिवसेना जिला प्रमुख सुनील खराटे, राजेश वानखड़े उपस्थित थे.