Jalil

    औरंगाबाद. एक तरफ सख्त लॉकडाउन (Strict Lockdown) के नाम पर औरंगाबाद महानगरपालिका (Aurangabad Municipal Corporation) के विशेष उड़न दस्तों (Special Flying Squads) द्वारा छोटे-छोटे व्यापारियों के साथ दादागिरी कर हर दिन लाखों रुपए वसूले जा रहे है। वहीं, दूसरी तरफ  कुछ नेताओं के दबाव में आकर शहर की प्रसिद्ध मिलन मिठाई की दुकान (Milan Sweet Shop) का सील (Seal) मनपा प्रशासन द्वारा दो घंटे बाद ही निकालने पर औरंगाबाद के सांसद इम्तियाज जलील (MP Imtiaz Jalil) खूब भड़के। उन्होंने इस मामले में मनपा कमिश्नर आस्तिक कुमार पांडेय, कलेक्टर  सुनील चव्हाण और सीपी डॉ. निखिल गुप्ता पर जमकर राग अलापा।

    अपने सांसद का 2 साल का कार्यकाल पूरे होने पर सांसद जलील  ने रविवार शाम फेसबुक लाइव के माध्यम से औरंगाबादवासियों से संवाद साधा। तब उन्होंने लॉकडाउन में व्यापारियों के समक्ष आ रही परेशानियों  से प्रशासन और सरकार को अवगत कराया। जलील ने पिछले कुछ दिनों से कलेक्टर, सीपी और मनपा कमिश्नर द्वारा व्यापारियों पर जुर्माना लगाने के साथ ही उनके दुकानों को सील करने की कार्रवाई पर कड़ी नाराजगी जताते हुए उन्हें आड़े हाथों लिया।

    क्या मिठाई खाकर सील निकाली गयी?

    शनिवार की दोपहर को शहर के मछली खड़क परिसर में स्थित मिलन मिठाई खुली होने पर मनपा के उड़न दस्ते ने उसे सील किया था। दो घंटे बाद ही यह सील निकाल दिया गया। प्रशासन की इस दोहरी नीति पर सांसद जलील ने मनपा कमिश्नर और अन्य आला अधिकारियों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि क्या सबको मिलन मिठाई दुकान से मिठाईयां मिलते ही दुकान का सील निकाला गया। जलील ने कहा कि पिछले एक पखवाड़े में प्रशासन द्वारा शहर के कई दुकानों को चोरी से व्यवसाय करने को लेकर सील किया गया। फिर मिलन मिठाई को लगाया हुआ सील दो घंटे में ही क्यों निकाला गया?। उन्होंने कहा कि हाल ही में मैंने शिवसेना विधायक प्रदीप जैसवाल के साथ कलेक्टर सुनील चव्हाण से मुलाकात कर जिन दुकानों को सील किया गया है, उन दुकानदारों से जुर्माना वसूलकर सील हटाने की मांग की थी। उस मांग पर प्रशासन ने अनदेखी करने पर जलील ने कलेक्टर चव्हाण को भी  आड़े हाथों लिया।

    दुकानदारों से पुलिस अधिकारियों ने ली रिश्वत 

    सांसद जलील ने लॉकडाउन काल में दुकानें खुली रखने के लिए शहर के कई पुलिस अधिकारियों ने दुकानदारों से रिश्वत लेने का आरोप लगाते हुए कहा कि इसके मेरे पास कई सबूत है। उन्होंने शहर के सीपी डॉ. निखिल गुप्ता के कामकाज पर भी कई सवाल उठाकर प्रशासन द्वारा दुकानदारों के साथ की जा रही जबरन वसूली की कार्रवाई पर कड़ी नाराजगी जतायी।

    सीएम से गरीबों पर मेहरबानी करने की विनंती 

    बीत सवा साल से कई महिने लॉकडाउन में गुजरे, जिससे गरीब व हर दिन मजदूरी कर अपने परिवार का पेट पालनेवालों के समक्ष कई दिक्कतें हो रही है। ऐसे में सरकार गरीब व्यापारी, रिक्शा चालक के लिए राज्य सरकार ने कुछ राहत भरा निर्णय लेने की मांग सांसद जलील ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से करते हुए आम आदमी का लाइट बिल, कर्ज के हफ्ते पर ब्याज की माफी देने की मांग की।