सतीश चव्हाण ने बनाई जीत की हैट्रिक

  • मराठवाडा स्नातक चुनाव में महाविकास आघाडी ने मारी बाजी
  • 57 हजार 895 वोटों से भाजपा के शिरीष बोरालकर को हराया
  • 1 लाख 16 हजार 638 वोट सतीश चव्हाण को मिले

औरंगाबाद. विधान परिषद के मराठवाडा स्नातक सीट से महाविकास आघाडी के उम्मीदवार सतीश चव्हाण ने भारी जीत हासिल की। उन्होंने भाजपा के शिरीष बोरालकर को 57 हजार 895 वोटों से मात देकर अपना परचम एक बार फिर लहराया व जीत की हैट्रिक साधी। सतीश चव्हाण को 1 लाख 16 हजार 638 वोट मिले, जबकि बोरालकर को 58 हजार 743 मतों पर ही  संतोष करना पड़ा।

स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के लिए हुए चुनाव में 23 हजार वोट अवैध पाए गए। जिससे स्नातकों के शिक्षा पर ही अब कई सवाल उठने लगे है। 4 दिसंबर की तड़के तक चली मतगणना में गुरुवार की सुबह 8 बजे से मराठवाडा के 8 जिलों के मतपेटियां खोलकर सभी बैलेट पेपर एक किए गए। उसके बाद मतणगना का काम 56 टेबलों पर गठ्ठे  बनाकर शुरू किया गया। 25-25 वोटों का  गट्ठे  तैयार कर वोटों की गिनती शुरू की गई। दोपहर 3 बजे तक बैलेट पेपर के गठ्ठे जमाने का काम जारी था। इसी दरमियान पोस्टल वोटों की गिनती की गई। कुल 1248 पोस्टल मतों में 175 वोट जाया हुए। पोस्टल वोटों में भी सतीश चव्हाण ने 314 वोटो की लीड ली। कुल 1 हजार 48 वोटों में 600 वोट सतीश चव्हाण ने हासिल किए। वहीं, बोरालकर को 286 वोटों पर ही संतुष्ट रहना पड़ा था।

पहले राउंड से ही बनाई बढ़त

पोस्टल वोटों की गिनती के बाद  बैलेट पेपर की गिनती शुरु कर शाम 6.30 बजे प्रथम राउंड की मतगणना पूरी हुई। सतीश चव्हाण ने 16  हजार 906  वोटों की लीड हासिल  की  थी। उनके प्रतिस्पर्धी उम्मीदवार शिरीष बोरालकर को 10 हजार 973 वोटों पर ही संतुष्ट रहना पडा। सतीश चव्हाण को 27 हजार 879 वोट हासिल हुए थे। दूसरे  राउंड में सतीश चव्हाण की बढ़त में और अधिक इजाफा हुआ। उन्हें 26 हजार 627 वोट मिले, जबकि बोरालकर को 13 हजार 989 वोटों पर ही संतुष्ट रहना पड़ा। तीसरे राउंड में भी सतीश चव्हाण ने और अधिक बढ़ाते हुए 26 हजार 739 वोट हासिल किए। उनके प्रतिस्पर्धी  भाजपा के  बोरालकर को 14 हजार 471 वोट प्राप्त हुए।

चौथे राउंड में सतीश चव्हाण को 26 हजार 700 तथा बोरालकर को 14 हजार 287 वोट मिले। पांचवे राउंड में सतीश चव्हाण को 8 हजार 722 वोट मिले, जबकि बोरालकर को 4 हजार 438 वोटों पर ही संतुष्ट रहना पडा।  इस तरह महाविकास आघाडी के सतीश चव्हाण ने कुल 1 लाख 16 हजार 638 हासिल कर बाजी मारी। अंतिम राउंड में बोरालकर को 58 हजार 743 वोट  मिले। चुनाव निर्णय अधिकारी तथा विभागीय आयुक्त सुनील केन्द्रेकर ने चव्हाण को तडके करीब 3 बजे विजयी घोषित किया।

मतदाताओं की शिक्षा पर उठे सवाल

स्नातक निर्वाचन क्षेत्र में शिक्षित मतदाता मतदान करते हैं। इस निर्वाचन क्षेत्र के कुल 3 लाख 73 हजार 166 मतदाताओं में से 2 लाख 40 हजार 796 मतदाताओं ने मतदान किया। जिसमें 23 हजार से अधिक वोट अवैध पाए गए। इतनी बढ़ी संख्या में शिक्षित लोगों के वोटा अवैध पाए जाने पर इस निर्वाचन क्षेत्र के मतदाताओं की शिक्षा पर लोग सवाल उठाने लगे।

हार से भाजपा को लगा झटका

एक तरफ  देश भर में आज भी मोदी लहर होने का  दावा भाजपा नेताओं द्वारा चुनाव प्रचार के दरमियान किया गया था। लेकिन, भाजपा के स्थानीय नेताओं का यह दावा पूरी तरह झूठा साबित हुआ। मराठवाडा के स्नातक मतदाताओं ने भाजपा को बुरी तरह मात देकर महाविकास आघाडी के उम्मीदवार सतीश चव्हाण को दिल खोलकर मतदान कराया। इस निर्वाचन क्षेत्र से उन्हें तीसरी बार विधायक बनाकर विधान परिषद में भेजा। उन्होंने 12 साल विधायक रहते स्नातकों तथा बेरोजगार युवाओं के कई समस्याओं के हल किए। जिसके चलते उनकी तीसरी बार जीत तय मानी जा रही थी।