theft
File Photo

पालांदूर. लाखनी शहर व आसपास के इलाकों में बैंकों से नकदी की चोरी, एटीएम से लूट, बाइक व मोटर पंप की चोरी की घटनाएं हुई है. इसके बावजूद पुलिस द्वारा चोर को पकड़ने में विफलता के कारण जनता व व्यापारी समुदाय में दहशत का माहौल है. नवनियुक्त पुलिस अधिकारी से इस पर अंकुश लगाने की अपेक्षा की गई थी, किंतु यह भी विफल हो गया.

ATM में नहीं रहते सुरक्षा कर्मी

लाखनी शहर में कई राष्ट्रीयकृत बैंक, सहकारी बैंक व पतसंस्था कार्यरत है. सभी बैंकों ने ग्राहकों की सुविधा के लिए एटीएम सुविधा प्रदान की है, लेकिन 8 सितंबर, 2020 को बैंक परिसर में सीसीटीवी कैमरे और पर्याप्त सुरक्षा गार्डों की कमी के कारण, एक व्यापारी के नौकर ने बैंक ऑफ महाराष्ट्र के एटीएम से 2 लाख रुपये नकदी निकालने के बाद अपनी प्रतिष्ठान के रास्ते जाते समय अज्ञात चोरों ने कैश बैग पर हाथ साफ किया. 14 नवंबर को गड़ेगांव में रहांगडाले परिवार के घर से 90,000 रुपये चोरी की गई. 24 नवंबर को प्रदीप तितिरमारे की मोटरसाइकिल को तहसील कार्यालय परिसर से चुरा लिया गया था.

इसी दिन अज्ञात चोरों ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया लाखनी शाखा के एक एटीएम से 80,000 रुपये निकालने के लिए बंसोड़ नीलागोंदी के एटीएम कार्ड का इस्तेमाल किया. 27 नवंबर को राज कंस्ट्रक्शन व दिवानजी व मालिक के बेटे ने स्टेट बैंक से 7 लाख रुपये निकाले और दुपहिया वाहन पर गांव के अपने रास्ते पर जा रहे थे, ऐसे में व्यापार संकुल के सामने हाईवे पर बीना नंबर वाली दोपहिया वाहन पर बैठे अज्ञात चोरों ने कैश बैग छीन लिया और फरार हो गए. 

खेतों से मोटरपम्प चुराई

कुछ किसानों के खेतों से मोटर पंपों की चोरी शहर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में हुई है. चल रहे चोरी के मौसम के बावजूद पुलिस प्रणाली चोरों को पकड़ने में विफल रही है. सूचना व प्रौद्योगिकी के युग में भले ही कई स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हों, फिर भी समझ से बाहर है कि चोरों का पता नहीं चला है. इससे लोगों में दहशत का माहौल बना हुआ है.