११८ किसानों को मिला फसल कर्ज

संग्रामपुर. अकाल के स्थिति में सरकार किसानों को राहत दिलाने की बात करती है. किंतु तहसील में अब तक केवल ११८ किसानों को फसल कर्ज दिया जाने की बात सामने आयी है. बैंकों ने फसल कर्ज का पुर्नगठन करने से

संग्रामपुर. अकाल के स्थिति में सरकार किसानों को राहत दिलाने की बात करती है. किंतु तहसील में अब तक केवल ११८ किसानों को फसल कर्ज दिया जाने की बात सामने आयी है.

बैंकों ने फसल कर्ज का पुर्नगठन करने से किया इंकार
संग्रामपुर तहसील में अकाल के कारण किसानों समेत आम आदमी की स्थिति डगमगा गई है. संग्रामपुर तहसील के राष्ट्रीयकृत बैंकों की ओर से १७ मई तक केवल ११८ किसानों को ९२ लाख 33 हजार रुपयों का फसल कर्ज वितरित किया गया है. तो भारतीय स्टेट बैंक शाखा व महाराष्ट्र बैंक शाखा संग्रामपुर ने एक भी किसान को फसल कर्ज नहीं दिया है. भारतीय स्टेट बैंक की सोनाला शाखा की ओर से ४६ किसानों को ५५ लाख का फसल कर्ज दिया गया है. सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की पातुर्डा शाखा १६ किसानों को ९ लाख ६४ हजार रुपयों का कर्ज वितरित किया है.

विदर्भ कोकण क्षेत्रीय बैंक शाखा वरवट बकाल ने 3 किसानों को 3 लाख का कर्ज वितरित किया है. जिला मध्यवर्ती बैंक शाखा संग्रामपुर ने ५२ किसानों को २४ लाख १९ हजार का कर्ज वितरित किया है. बैंक ऑफ महाराष्ट्र शाखा बावनबीर ने केवल १ किसान को ५० हजार रुपयों का कर्ज दिया है. इसे देखते हुए किसानों का मजाक उड़ाया जा रहा है. बैंकों ने फसल कर्ज का पुर्नगठन करने से इंकार किया है. इसलिए किसानों को खरिफ मौसम की बुआई के लिए फसल कर्ज मिलना जरूरी है.

केवल ६,७१७ किसानों को मिली कर्ज माफी
तहसील में १५,५3८ किसान कर्जमाफी के लिए पात्र होने के बावजूद केवल ६,७१७ किसानों को कर्ज माफी मिली है. तो ८,7४१ किसान कर्जमाफी से वंचित है. इन किसानों को कर्जमाफी करने संदर्भ में सरकार ने अभी तक कोई भी निर्णय नहीं लिया है. जिसके कारण उन पर बैंक का कर्जा बकाया है. ऐसे में उन्हें नए से फसल कर्ज नहीं मिल रहा है. जिलाधिकारी ने एक पत्र व्दारा राष्ट्रीयकृत बैंकों को फसल कर्ज वितरित करने संदर्भ में आदेश दिए हैं. किंâतु किसानों को कोई राहत मिलती दिखाई नहीं दे रही है.