Sensex
File Photo

    मुंबई: एशियाई बाजारों में कमजोरी के रुख के बीच और टाइटन, विप्रो तथा एचडीएफसी बैंक जैसे बड़े शेयरों में गिरावट के चलते प्रमुख शेयर सूचकांक सेंसेक्स बृहस्पतिवार को शुरुआती कारोबार में 1,100 अंक से अधिक या दो प्रतिशत लुढ़क गया। कारोबारियों के मुताबिक विदेशी निवेशकों की बिकवाली और अमेरिकी फेडरल रिजर्व के ब्याज दरें जल्द बढ़ाने के संकेत से भी घरेलू शेयर बाजार की धारणा प्रभावित हुई है। 

    शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 1,155.61 अंक या दो प्रतिशत की गिरावट के साथ 56,702.54 पर कारोबार कर रहा था। इसी तरह निफ्टी 329.15 अंक या 1.91 फीसदी गिरकर 16,948.80 पर आ गया। सेंसेक्स में सबसे अधिक 4.06 प्रतिशत की गिरावट टाइटन में हुई। इसके अलावा विप्रो, डॉ. रेड्डीज, टेक महिंद्रा, एचडीएफसी बैंक और इंफोसिस भी गिरने वाले प्रमुख शेयरों में शामिल थे। दूसरी ओर मारुति और एनटीपीसी हरे निशान में थे। 

    पिछले सत्र में तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 366.64 अंक यानी 0.64 प्रतिशत मजबूत होकर 57,858.15 अंक पर बंद हुआ था। इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 128.85 अंक यानी 0.75 प्रतिशत लाभ के साथ 17,277.95 अंक पर बंद हुआ था। अमेरिका के केंद्रीय बैंक ने बुधवार को संकेत दिए थे कि मुद्रास्फीति से निपटने के लिए वह मार्च में ब्याज दरें बढ़ा सकता है। 

    अन्य एशियाई बाजारों में हांगकांग, सियोल, शंघाई और तोक्यो में शेयर मध्य सत्र के सौदों में नुकसान के साथ कारोबार कर रहे थे। इस बीच अंतरराष्ट्रीय तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 0.93 प्रतिशत बढ़कर 89.12 डॉलर प्रति बैरल के भाव पर आ गया। शेयर बाजार के अस्थाई आंकड़ों के मुताबिक विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने मंगलवार को सकल आधार पर 7,094.48 करोड़ रुपये के शेयर बेचे।