Actress Jacqueline Fernandez reaches ED office, inquiry continues in extortion case of Rs 200 crore involving conman Sukesh Chandrashekhar
Photo:ANI

    मुंबई: एक्ट्रेस जैकलीन फर्नांडीज (Actress Jacqueline Fernandez) सुकेश चंद्रशेखर (Sukesh Chandrashekhar) से जुड़े 200 करोड़ रुपये के वसूली मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) (ED) के दिल्ली स्थित कार्यालय में बुधवार को पेश हुईं। बॉलीवुड एक्ट्रेस जैकलीन फर्नांडिस को ईडी ने आज पूछताछ के लिए तलब किया था। बताया जा रहा है कि, अभिनेत्री से ईडी सुकेश चंद्रशेखर को लेकर सवाल-जवाब करना चाहती है।

    ईडी इससे पहले भी जैकलीन फर्नांडीज से पूछताछ कर चुकी है। इससे पहले रविवार को जैकलीन फर्नांडीज को एयरपोर्ट पर रोका गया था हालांकि बाद में एक्ट्रेस को छोड़ दिया गया था। ईडी ने एक्ट्रेस के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी किया था जिसकी वजह से जैकलिन को एयरपोर्ट पर रोक दिया गया था।

    मुंबई एयरपोर्ट (Mumbai Airport) पर रोके जाने के बाद ईडी (ED) ने जैकलीन फर्नांडिस को एक बार फिर से पूछताछ के लिए तलब किया था। गौरतलब है कि सुकेश चंद्रशेखर (Sukesh Chandrasekhar) तिहाड़ जेल के कॉलर आईडी में गड़बड़ी करके जैकलीन, नोरा और भी अन्य सेलिब्रिटीज को फोन करता था।

    रिपोर्ट के मुताबिक सुकेश जैकलीन से अपनी असली पहचान छिपाकर किसी बड़ी पर्सनैलिटी के नाम कॉल किया करता था। एक्ट्रेस का भरोसा जीतने के लिए उन्हें महंगे फूल, चॉकलेट और गिफ्ट भेजने लगा था। 

    एजेंसी पहले भी इस मामले के संबंध में दो बार जैकलिन से पूछताछ कर चुकी है। उन्हें और चंद्रशेखर को आमने-सामने बैठा कर भी पूछताछ की गई है। गौरतलब है कि चंद्रशेखर और अभिनेत्री पत्नी लीना मारिया पॉल के खिलाफ 200 करोड़ रुपये से अधिक के धन शोधन का मामला दर्ज है। आरोप पत्र में दावा किया गया था कि चंद्रशेखर ने जैकलिन को कई महंगे उपहार दिए थे। चंद्रशेखर पर कुछ लोगों से धोखाधड़ी करने के आरोप हैं।

    जैकलिन के प्रवक्ता ने पहले कहा था कि अभिनेत्री बतौर एक गवाह एजेंसी के समक्ष बयान दर्ज करा रही हैं। जैकलिन के प्रवक्ता ने अक्टूबर में एक बयान में कहा था, ‘‘जैकलिन फर्नांडिज को बतौर गवाह बयान दर्ज कराने के लिए बुलाया गया है। उन्होंने अपना बयान दर्ज करा दिया है और भविष्य में भी वह जांच में एजेंसी का सहयोग करेंगी। जैकलिन साथ ही मामले में संलिप्त दम्पति के निंदनीय बयानों का पूरी तरह खंडन करती हैं।”

    प्रवर्तन निदेशालय ने अगस्त में, चंद्रशेखर के परिसरों पर छापेमारी की थी और चेन्नई में समुद्र के सामने स्थित एक बंगला, 82.5 लाख रुपये नकद और एक दर्जन से अधिक शानदार कारें जब्त की थीं। ऐसा दावा किया गया है कि चंद्रशेखर एक ‘‘ठग” है और दिल्ली पुलिस लगभग 200 करोड़ रुपये की कथित आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी और जबरन वसूली के मामले उसके खिलाफ जांच कर रही है।

    ईडी ने कहा, ‘‘ धोखाधड़ी के प्रमुख साजिशकर्ता चंद्रशेखर है। वह 17 साल की उम्र से इन आपराधिक कृत्यों में लिप्त है। उसके खिलाफ कई प्राथमिकी दर्ज हैं और अभी वे रोहिणी जेल में बंद है।” ईडी ने कहा कि जेल में होने के बावजूद चंद्रशेखर ने ‘‘ लोगों को ठगना बंद नहीं किया।” एजेंसी ने दावा किया, ‘‘उसने (जेल में अवैध रूप से खरीदे गए फोन से) तकनीक की मदद से लोगों को ठगने के लिए फर्जी कॉल किए, जिन नंबरों से फोन किए गए वे वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों के प्रदर्शित हो रहे थे। जेल से इन लोगों से बात करते हुए उसने दावा किया कि वह सरकारी अधिकारी है और पैसों के बदले लोगों को मदद की पेशकश कर रहा है।” पुलिस ने हाल ही में मामले में महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण अधिनियम (मकोका) लागू किया है।