मंदिर, धार्मिक स्थल के कपाट खोले, एटापल्ली के धार्मिक संगठनों की मांग

एटापल्ली. अनलॉक अंतर्गत सभी व्यवहार धीरे धीरे सामान्य स्थिति में आ रहे है। सरकार ने मदिरालय खोल दिये है किंतु अब मंदिर और धार्मिक स्थानों के कपाट नहीं खोले गये है। जहां लोगों का मनोबल बढानेवाला, मन को शांति प्रदान करनेवाले होते है इसलिए विभिन्न धार्मिक संगठनों के पदाधिकारियों ने जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मंदिर के कपाट खोलने की विनंती की है।

कोविड-19 के महामारी के कारण कुछ नियम और शर्ते लागू की गई है। इस पर अमल करते हुए अब धीरे धीरे  सभी व्यवहार पूर्ववत शुरू हो रहे है। अनलॉक अंतर्गत संभवत सभी भीड के जगहों पर की, प्रतिष्ठानों  की पाबंदी हटाई गई उन्हे पूर्ववत शुरू करने को अनुमति दी है। किंतु अब भी समाज के श्रद्धास्थान मंदिर, धार्मिक स्थल से पाबंदी नहीं हटी है. मंदिर समाज को संकटों से लडने की प्रेरणा देनेवाले होते है। जिस तरह अन्य स्थलों पर, प्रतिष्ठानों पर सरकारी नियमों का पालन कर नियमों में शिथिलता दी गई है उसी प्रकार मंदिरों के लिए भी नियमावली के दर्शन की अनुमति देने की मांग की है। 

ज्ञापन सौंपने वालों में एटापल्ली के हनुमान मंदिर विश्वस्त मंडल, गुरुदेव सेवा मंडल, श्री सत्यसाई सेवा समिति, श्री रविंद्रनाथ टैगोर सेवा समिति, अखिल विश्व गायत्री परिवार, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, विश्व हिंदू परिषद, संस्कार संस्था, आर्य वैश्य कोमटी समाज, सार्वजनिक दुर्गा उत्सव मंडल, जय मॉ गायत्री शारदा उत्सव मंडल, अन्याय विरोधी आंदोलन समिति, व्यापारी संगठना, डॉ. हेडगेवार सेवा समिति, बजरंग दल का समावेश है ।