अमरिंदर देशभक्त हैं; राष्ट्र को सर्वोपरि रखने वालों के साथ गठबंधन को तैयार भाजपा: दुष्यंत गौतम

    हमारा प्रमुख मुद्दा राष्ट्रवाद और राष्ट्र को सर्वोपरि रखना है। इस एजेंडे पर जो भी पार्टी हमारे साथ गठबंधन करना चाहती है, उसका स्वागत है। अमरिंदर सिंह कभी एक सैनिक थे और राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दों पर उनके रुख की प्रशंसा की जानी चाहिए।

    नयी दिल्ली: भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव तथा पंजाब प्रभारी दुष्यंत गौतम ने कहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह देशभक्त हैं और भाजपा देशहित को सर्वोपरि रखने वालों के साथ गठबंधन के लिए तैयार है।  पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री ने मंगलवार को कहा था कि जल्द ही वह अपना राजनीतिक दल बनाएंगे और उन्हें उम्मीद है कि यदि किसानों के हितों से संबंधित मुद्दे का हल निकाला जाता है, तो भाजपा के साथ सीट बंटवारे पर विचार किया जा सकता है।

    किसानों के मुद्दों को हल करने की सिंह की शर्त के बारे में भाजपा नेता ने कहा कि सिंह ने किसानों का आंदोलन खत्म होने के बारे में कोई बात नहीं की।

    गौतम ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ”उन्होंने किसानों के मुद्दों पर बात नहीं की। हम इसे लेकर प्रतिबद्ध हैं और किसानों के कल्याण के लिए काम कर रहे हैं। समय आने पर दोनों साथ बैठकर किसानों के मुद्दों पर चर्चा करेंगे।” उन्होंने आरोप लगाया कि जहां तक आंदोलन की बात है, तो वह राजनीति से प्रेरित है। 

    गौतम ने कहा, ”हमारा प्रमुख मुद्दा राष्ट्रवाद और राष्ट्र को सर्वोपरि रखना है। इस एजेंडे पर जो भी पार्टी हमारे साथ गठबंधन करना चाहती है, उसका स्वागत है।” भाजपा नेता ने कहा कि अमरिंदर सिंह कभी एक सैनिक थे और राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दों पर उनके रुख की प्रशंसा की जानी चाहिए।

    उन्होंने कहा, ”…वह (अमरिंदर सिंह) एक सैनिक थे। वह देश के लिए खतरों और इसे कैसे सुरक्षित रखना है, इस बारे में जानते हैं। वह देशभक्त हैं और जब भी सीमाओं पर राष्ट्रीय सुरक्षा तथा सुरक्षा की बात होती है, तो हम उनके रुख की सराहना करते हैं। राष्ट्रवादी भाजपा के लिए ‘अछूत’ नहीं हैं।”

    भाजपा नेता ने यह भी कहा कि उनकी पार्टी अक्सर पंजाब के सामाजिक मुद्दों पर सिंह की आलोचना करती रही है। बहरहाल, गौतम ने संकेत दिया कि अभी तक कुछ भी तय नहीं किया गया है, क्योंकि ‘अमरिंदर सिंह को अभी अपनी पार्टी बनानी है और अपने विचार रखने हैं।’

    सिंह ने पिछले महीने कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू के साथ कटु विवाद और प्रदेश इकाई में अंदरूनी कलह के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। पार्टी ने उनकी जगह चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाया था। इस्तीफा देने के बाद सिंह ने केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल से भी मुलाकात की थी।(एजेंसी)