किसानो का आंदोलन (Photo Credits-ANI Twitter)
किसानो का आंदोलन (Photo Credits-ANI Twitter)

    नई दिल्ली: कृषि कानूनों को लेकर देश में घमासान जारी है। देश में आज 40 से अधिक किसान संगठनों ने भारत बंद का ऐलान किया है। सुबह 6 बजे से लेकर शाम 4 बजे तक सभी सरकारी और प्राइवेट दफ्तरों, बाजारों और दुकानों को बंद रखने की अपील की गयी है। किसानों के बंद का असर अब दिख रहा है। साथ ही इसे विपक्ष का समर्थन भी प्राप्त है। इसी बीच कांग्रेस नेताओं ने किसानों के बंद का समर्थन किया है। साथ ही कहा कि इस मसले का बातचीत से समाधान निकालें। 

    बता दें कि कांग्रेस नेता जयवीर शेरगिल ने कहा कि आज 1 साल हो गया है जब तीन काले कानूनों के द्वारा देश की किसानी और किसान पर काले बादल ला दिए गए थे। आज हर भारतवासी को भाजपा का जो लक्ष्य है किसान और किसानी खत्म उसके खिलाफ आवाज उठानी चाहिए, भारत बंद का समर्थन करके। दूसरी ओर हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि बातचीत से हल निकल सकता है, किसी की तरफ से भी कोई शर्त नहीं लगानी चाहिए। खुले दिल से बातचीत करनी चाहिए और इस समस्या का समाधान करना चाहिए। 

    गौर हो कि राष्ट्रीय अध्यक्ष भारतीय किसान यूनियन (भानु) भानु प्रताप ने कहा कि भारत बंद से अर्थव्यवस्था पर असर पड़ेगा। क्या भारत बंद करके ये(राकेश टिकैत) अपनी आतंकवादी गतिविधियों को और बढ़ाना चाहते हैं? आतंकी संगठन तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान में कब्जा किया, उस तरह की गतिविधियों को ये बढ़ाना चाहते हैं।

    दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर गाड़ियां का लंबा जाम लगा, देखें वीडियो-

    शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि किसान 1 साल से आंदोलन कर रहे हैं। यह किसानों का बंद है। देश की जनता पूरी भावनाओं के साथ किसानों के साथ है। उद्योग तो वैसे ही बंद है। बेरोज़गारी के कारण लोग वैसे ही घरों में बैठे हैं तो बंद तो चल रहा है इसलिए किसानों ने भी बंद का ऐलान किया। हम मन से उनके साथ है।