Election Commission freezes LJP party symbol amid dispute between Chirag Paswan and Pashupati Kumar Paras

    नई दिल्ली: चिराग पासवान और पशुपति कुमार पारस बीच जारी तनातनी अभी तक खत्म नहीं हुई है। दोनों की राहे भी अब अलग हो गई हैं। इन सबके बीच भारतनिर्वाचन आयोग (ईसीआई) ने बड़ा कदम उठाया है। ईसीआई ने लोक जनशक्ति पार्टी के चुनाव चिह्न फ्रीज़ कर दिया है। यानी दोनों ही गुट अब पार्टी के चिह्न को इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे। 

    बताया जा रहा है कि, चुनाव आयोग का कहना है कि, फिलहाल दोनों समूहों में से किसी को भी चिह्न का उपयोग करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। दरअसल लोजपा के सांसद पशुपति कुमार पारस और चिराग पासवान के बीच कुछ समय से खटास जारी है। पशुपति कुमार पारस चिराग पासवान के चाचा हैं और पार्टी में काफी रसूख रखते हैं।  

    लोजपा पार्टी में बड़ा संकट जून महीने में शुरू हुआ था। तब पांच सांसद पासवान गुट छोड़ पारस गुट में शामिल हो गए थे। पारस ने इसी दौरान खुद को पार्टी अध्यक्ष घोषित कर दिया था।

    बता दें कि, चिराग पासवान शुक्रवार को चुनाव आयोग कार्यालय पहुंचे थे। एक रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने मांग की थी कि, पार्टी का चुनाव चिन्ह उनकी पार्टी के पास बना रहे।