On targeted killings in Jammu and Kashmir, Congress said – full statehood should be restored, fair elections should be held
File Photo

जम्मू. जम्मू-कश्मीर पुलिस ने शनिवार को हिज्बुल मुजाहिदीन के शीर्ष आतंकवादी जहांगीर सरूरी, उसके दो सहयोगियों तथा किश्तवाड़ जिले में सक्रिय इसके 10 सदस्यों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया। एक पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि यह आरोपपत्र जम्मू में तृतीय अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश टीएडीए/पीओटीए की अदालत में दायर किया गया है। आरोपपत्र अवैध गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम और शस्त्र अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत इस साल की शुरुआत में दाचन पुलिस थाने में दर्ज एक मामले के संबंध में दायर की गई है।

सरूरी के अलावा दो अन्य आतकंवादी दाचन का मुदासीर हुसैन और मारवाह का रियाज अहमद है। वहीं 10 सक्रिय सदस्यों पर वाहन और वित्तीय सहायता समेत अन्य तरह की सहायता मुहैया कराने आरोप है। किश्तवाड़ क्षेत्र में सबसे लंबे समय तक सक्रिय रहते हुए भी जिंदा बचने वाला आतंकवादी सरूरी है। वह पिछले 30 साल से सक्रिय है। उसने जिले में भाजपा के एक नेता और उनके भाई की 2018 में हत्या कर आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ाया। इस घटना के बाद जिला अस्पताल में अप्रैल 2019 में आतंकवादी हमला हुआ और इसमें आरएसएस के एक पदाधिकारी और उनके निजी सुरक्षा गार्ड की मौत हो गई। हलांकि, हत्या में शामिल कई आतंकवादी या तो मारे गए या पकड़े गए, लेकिन सरूरी अब भी अपने चुनिंदा सहयोगियों के साथ फरार है।