Buddha Purnima 2021 : इस दिन भूल से भी न करें ये गलती, नहीं मिलता शुभ फल

    Budh Purnima 2021: हिंंदू धर्म में हर महीने आने वाली पूर्णिमा (Purnima) का विशेष महत्व होता है। पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। वैशाख माह की पूर्णिमा और भी विशेष है क्योंकि इस दिन भगवान बुद्ध का जन्म हुआ था, जिन्हें भगवान विष्णु का ही अवतार माना जाता है। यही कारण है कि वैशाख पूर्णिमा (Vaishakh Purnima) को बुद्ध पूर्णिमा (Buddha Purnima) भी कहा जाता है। इस साल बुद्ध पूर्णिमा 26 मई 2022, दिन बुधवार को है। मान्यता अनुसार बुद्ध पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा करने से असीम कृपा प्राप्त होती है। घर में खुशहाली और सुख-शांति आती है।

    इस साल बुद्ध पूर्णिमा के दिन शिव और सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है। शिव योग 26 मई की रात 10 बजकर 52 मिनट तक रहेगा, इसके बाद शिव योग लगेगा।

    जरूर करें यह कार्य 

    • बुद्ध पूर्णिमा का पर्व भारतीय परंपरागत का पावन त्यौहार माना जाता है। इस दिन स्नान, दान और पूजा-पाठ करने से आपके सारे कष्ट दूर हो जाते हैं।  
    • इस दिन कुछ मीठा दान करें। मान्यता अनुसार इस दिन मीठा दाल करने से गौदान के बराबर फल मिलता है। यदि आपसे कोई गलती या पाप हो गया है तो इस दिन चीनी और तिल का दान देने से इस पाप से छुटकारा मिल जाता है।  
    • पूजा के लिए भगवान विष्णु के प्रतिमा के सामने घी से भरा एक पात्र रखें। इसके साथ ही तिल और चीनी रखें। फिर उसमें तिल के तेल से दीपक जलाएं और भगवान की पूजा करें।
    • बोधिवृक्ष की पूजा का इस दिन विशेष महत्त्व होता है। उसकी शाखाओं को कलरफूल पताकाएं और हार से सजाया जाता है। इसके बाद उसमें दूध और सुंगधित जल डाला जाता है। इसके बाद दीपक जलाएं जाते हैं।
    • इस दिन पितरों को तृप्त करने का दिन माना जाता है। इसके लिए किसी पवित्र नदी में स्नान का हाथ में तिल लेकर तर्पण करें। 
    • अगर आप बुद्ध पूर्णिमा के दिन जरूरतमंद और गरीबों को दान देते हैं तो इससे आपको मनवांचित फल मिलने की प्राप्ति होती है।

    भूलकर भी न करें ये काम

    • इस दिन मांसाहार का सेवन गलती से भी नहीं करना है। ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि बुद्ध पशु हिंसा के विरोधी थे।