करवाचौथ पर अगर नजर नहीं आए चांद, तो ऐसे तोड़ें व्रत

    -सीमा कुमारी

    करवाचौथ (Karwa Chauth) हिंदू धर्म के महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। मान्यताओं के अनुसार, इस दिन महिलाएं अपने पति की दीर्घ आयु, स्वास्थ्य एवं मंगलकामना के लिए निर्जल व्रत रखती हैं और  सोलह श्रृंगार भी करती हैं। महिलाएं चंद्रमा को देखकर अपने पति के हाथों जल ग्रहण करके ही व्रत तोड़ती हैं।  लेकिन, कई बार ऐसा भी होता है जब किसी कारणवश चांद नहीं दिख पाता। ऐसे में सवाल उठता है कि व्रत कैसे खोलें ?

    हिन्दू पारंपरिक रीति-रिवाजों के मुताबिक, आप चंद्रमा को देखे बिना अपना उपवास नहीं खोल सकतीं। नियम अनुसार, छन्नी से पहले चांद और फिर पति का चेहरा देखने पर ही व्रत संपन्न होती है। मगर, कई बार चांद बादल या घने इलाके में पेड़ों के पीछे छिप जाता है और दिखाई नहीं देता। ऐसे में ज्योतिषों द्वारा बताए गए कुछ महत्वपूर्ण उपायों को अपनाकर महिलाएं  बिना चाँद दिखें भी अपना व्रत तोड़ सकती हैं। आइए जानें उन उपायों को –

    ज्योतिष-शास्त्र के अनुसार, अगर चांद ना दिखाई दे तो भगवान शिव के मस्तक पर विराजमान चंद्रमा के दर्शन करें। फिर चंद्रमा की पूजा करके क्षमा याचना करें। इसके बाद पति की पूजा करके व्रत पूर्ण करें।

    स्त्रों के अनुसार, गर्भवती, बुजुर्ग एवं रोगी महिलाओं को अगर चांद न दिखे तो परेशान न हों। आप बिना चांद देखें भी व्रत खोल सकती हैं।

    कहते हैं कि,अगर आपको चांद नहीं दिखे, तो ऐसे में व्रत करने वाली महिलाएं अगले दिन सूर्योदय के बाद भोजन कर सकती हैं।

    ज्योतिषविदों के अनुसार, चांद दिखाई ना दे तो चौकी सजाकर उस पर लाल कपड़े बिछाएं। इसके ऊपर चावल से चांद की आकृति बनाकर ‘ओम चतुर्थ चंद्राय नमः’ मंत्र का जाप करें। फिर चंद्रमा का आह्वान करके विधि-विधान से पूजा करें। मां लक्ष्मी की ध्यान करके पति का पूजा करें और व्रत पूरा कर लें।

    अपने दोस्तों को फोन करें और वीडियो कॉलिंग चांद देखकर व्रत पूरा करें।