File Photo
File Photo

    -सीमा कुमारी

    ज्योतिष-शास्त्र के अनुसार, सभी ग्रह एक निश्चित समय अवधि के लिए एक राशि से दूसरी राशि में गोचर करते हैं। एक्सपर्ट्स की राय में ग्रहों के राशि परिवर्तन इंसान के जीवन पर बहुत पड़ता है। साथ ही ग्रहों का राशि परिवर्तन किसी के लिए शुभ, किसी राशि के जातक के लिए कष्टदायक होता है।

    छाया ग्रह केतु 12 अप्रैल, 2022 से तुला (Libra) राशि में गोचर कर रहे हैं। केतु (Ketu) इस राशि में साल 2023 तक विराजमान रहेंगे।ज्योतिष-विज्ञान के अनुसार, यूं तो केतु के इस राशि परिवर्तन का असर सभी राशि के जातकों पर होगा, लेकिन 3 राशि के जातकों के लिए यह गोचर बड़ा लाभदायक  हो सकता है।

    कुंभ (Aquarius)

    ज्योतिष-शास्त्र के अनुसार, केतु इस राशि के 9वें भाव में विराजमान हैं। कुंडली का 9वें भाव भाग्य और विदेश यात्रा का विचार किया जाता है। ऐसे में इस राशि के जातकों को केतु गोचर की अवधि में भाग्य का पूरा साथ मिलेगा। जिस काम में हाथ डालेंगे, उसमें कामयाबी मिल सकती है। बिजनेस को लेकर की गई यात्रा लाभदायक साबित हो सकता है। सैलरी में इंक्रीमेंट की संभावना है। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने वालों के लिए यह समय शुभ साबित होगा। नौकरी में प्रमोशन मिल सकता है। आर्थिक स्थिति बेहतर होगी।

    मकर (Capricorn)

    मकर राशि के जातकों की कुंडली में केतु अभी 10वें भाव में गोचर कर रहे हैं। ऐसे में केतु गोचर की अवधि इस राशि के लिए लाभकारी साबित हो सकता है। कार्यक्षेत्र में परिवर्तन के साथ-साथ प्रमोशन की भी प्रबल संभावना है। जो लोग नौकरी की तलाश में हैं, उन्हें इसका प्रस्ताव मिल सकता है। बिजनेस में विस्तार के साथ-साथ मुनाफा भी बढ़ सकता है। रुके के हुए धन मिल सकते हैं। केतु गोचर की अवधि में जमीन या मकान/दुकान खरीदने का योग बन रहा है।

    कर्क (Cancer)

    केतु इस राशि के चौथे भाव में गोचर कर रहे हैं। चौथा भाव माता, वाहन सुख और भौतिक सुख का होता है। ऐसे में इस राशि के जातकों के लिए केतु का गोचर लाभकारी साबित हो सकता है। अविवाहित जातकों का रिश्ता पक्का हो सकता है। साथ ही जो लोग नौकरी में हैं, उन्हें प्रमोशन का लाभ मिल सकता है। वाहन या प्रॉपर्टी खरीदने का का मन बना सकते हैं। माता की तरह से आर्थिक लाभ हो सकता है। नौकरी में स्थान परिवर्तन की संभावना है।