Image-Social Media
 (प्रतीकात्मक तस्वीर)
Image-Social Media (प्रतीकात्मक तस्वीर)

    सीमा कुमारी

    नई दिल्ली: सनातन धर्म में ऐसी बहुत सी महत्वपूर्ण बातें हैं, जिन्हें जानना हमारे लिए बेहद जरूरी है। लेकिन, आज की युवा पीढ़ी की बात करें तो, ये अपनी संस्कृति से दूर होते जा रहे हैं। इसलिए आज अपने इस आर्टिकल में हम आपको ऐसी ही एक बात बताने जा रहे है जिसके बारे में जानना शायद हर किसी के लिए बहुत आवश्यक है।

    अक्सर कई बार लोग खाने के बाद थाली में हाथ धो लेते हैं। लेकिन, खाने की थाली में हाथ कभी नहीं धोना चाहिए। धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, खाने की थाली में हाथ धोना अशुभ माना गया है। आइए जानें आखिर भोजन की थाली में हाथ धोना क्यों अशुभ माना जाता है।

    शास्त्रों के अनुसार, थाली में हाथ धोने से उसमें बचे हुए अन्न का अनादर होता है। साथ ही इससे देवी अन्‍नपूर्णा और देवी लक्ष्‍मी नाराज होती हैं। ऐसा न करने के पीछे की वजह भी बताई गई है। लिहाजा भोजन का कभी अपमान नहीं करना चाहिए।

    शास्त्रों में भोजन की थाली हमेशा चटाई, पाट या चौकट पर सम्मान पूर्वक ही रखनी चाहिए। इसके अलावा, भोजन की थाली को कभी एक हाथ से नहीं पकड़ना चाहिए। इससे जुड़ी मान्यताओं की मानें तो एक हाथ से पकड़ने से खाना प्रेत योनि में चला जाता है। तो वहीं, थाली में जूठन छोड़ना भी अशुभ माना जाता है। इस बात का भी खास ध्यान रखना चाहिए कि भोजन से पहले भगवान का ध्यान लगाएं, ऐसा करना उत्तम होता है।

    शास्त्रों में अग्नि को मुख्य देवता माना गया है। साथ ही ये बताया जाता है कि यज्ञ में अर्पित की जाने वाली साम्रगी देवताओं को भोजन के रूप में प्राप्त होती है। इसलिए भोजन का विशेष महत्व माना गया है। तो वहीं कई अन्य पुराणों में अन्न का अपमान करना पाप माना गया है।इसलिए ऐसी गलती भूलकर भी करें।