Reveals' RTI: Maharashtra government spent Rs 155 crore on campaigns
Photo: Twitter/@CMOMaharashtra

  • 7 जिलों में ज्यादा सावधानी बरतने की जरुरत

मुंबई. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) ने जिलाधिकारियों को जल्दबाजी में लॉकडाउन (Lockdown) के प्रतिबंधों (Restrictions) को लेकर ज्यादा छूट नहीं देने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि दूसरी लहर (Second Wave) से अभी तक हम पूरी तरह बाहर नहीं निकले हैं। 

हालांकि जिलों में कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के हालात और बेड की उपलब्धता के आधार पर लॉकडाउन में छूट देने के निर्देश दिए गए हैं। ऐसे में यदि लोगों की भीड़ बढ़ती है तो स्थिति खराब हो सकती है। मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारियों से कहा है कि वे अपने शहर या जिले में लॉकडाउन में छूट देने में जल्दबाजी न करें। 

तीसरी लहर को लेकर सावधान 

मुख्यमंत्री ने कोरोना की तीसरी लहर को लेकर भी अधिकारियों को आगाह किया है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र समेत अन्य राज्यों में डेल्टा प्लस म्यूटेंट वायरस का खतरा बढ़ रहा है। इन सब को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य विभाग को सभी जिलों के लिए भविष्य में अधिक ऑक्सीजन और आईसीयू बेड की योजना बनाने के साथ-साथ फील्ड अस्पतालों जैसी सुविधाओं की योजना बनानी चाहिए।

इन जिलों को सावधान रहने की जरुरत 

मुख्यमंत्री ने रायगढ़, रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग, सतारा, सांगली, कोल्हापुर और हिंगोली जिलों के जिलाधिकारियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बात कर वहां के हालात की समीक्षा की। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे भी मौजूद थे। मुख्य सचिव सीताराम कुंटे ने कहा कि राज्य के इन 7 जिलों के हालात चिंता का विषय हो सकते हैं। इनमें से 3 जिले कोंकण में, 3 पश्चिमी महाराष्ट्र में और एक मराठवाड़ा में है। यहां बड़े पैमाने पर टेस्टिंग के साथ ही ट्रेसिंग और टीकाकरण पर जोर दिया जाएगा। मुख्य सचिव ने कहा कि झुग्गी बस्तियों में टेस्टिंग बढ़ाने और कंटेनमेंट उपायों को सख्ती से लागू करने पर ध्यान देना चाहिए।