Pawar's 'contribution' to Minister Malik

  • बोले, ड्रग्स मामले में सीधा संबंध नहीं
  • दामाद की गिरफ्तारी, ससुर सेफ

मुंबई. महाराष्ट्र महाविकास आघाड़ी सरकार (Maharashtra Mahavikas Aghadi Government) में अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री नवाब मलिक (Nawab Malik) के दामाद (son in law) की ड्रग्स मामले में गिरफ्तारी के बाद माना जा रहा था कि उनकी मुश्किलें बढ़ सकती हैं, लेकिन पार्टी अध्यक्ष शरद पवार (Sharad Pawar) ने उन्हें अभयदान दे दिया है। पवार ने साफ तौर से कहा है कि मलिक का ड्रग्स मामले से कोई सीधा संबंध नहीं हैं। ऐसे में उन पर पार्टी की तरफ से कार्रवाई का कोई सवाल नहीं हैं।

उन्होंने कहा कि मलिक करीब पिछले 25 सालों से सार्वजनिक जीवन में हैं। इस दौरान मलिक के खिलाफ किसी तरह की शिकायत नहीं मिली है। बतौर नेता व जनप्रतिनिधि मलिक ने बेहतर काम किया है। ऐसे में दामाद (समीर खान ) पर लगे आरोप से ससुर (नवाब मलिक) का कोई संबंध नहीं है। पवार का यह बयान मलिक के लिए बड़ी राहत लेकर आया है। कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक मुंबई में उत्तर भारतीय नेताओं में एक बड़ा चेहरा हैं। ऐसे में उनकी मंत्री पद पर यदि किसी तरह का खतरा आता तो उत्तर भारतीय समाज को बड़ा झटका लग सकता था।  

कानून से ऊपर से कोई नहीं

ड्रग्स मामले में अपने दामाद समीर खान की गिरफ्तारी को लेकर मंत्री नवाब मलिक ने कहा है कि कानून से ऊपर कोई नहीं है और यह सबके लिए बराबर है। उन्होंने कहा कि कानून अपना काम करेगा और न्याय मिलेगा। मलिक ने कहा कि उन्हें कानून व न्याय प्रक्रिया पर पूरा भरोसा है।

क्या है मामला

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (Narcotics Control Bureau) ने महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक के दामाद समीर खान को बुधवार को 10 घंटे की पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया था। पिछले दिनों एनसीबी की गिरफ्त में आए ब्रिटिश नागरिक और ड्रग्स तस्कर करण सजनानी से हुई पूछताछ में खान का नाम सामने आया था। एनसीबी की जांच में सामने आया है कि खान ने गुगल पे के जरिए करण को 20 हजार रुपए चुकाए थे। जिसके बाद एनसीबी ने खान को समन भेज कर पूछताछ के लिए बुलाया था। एनसीबी ने ड्रग्स तस्कर ब्रिटिश नागरिक करण सजनानी के साथ उनके रिश्तों को लेकर खान से 10 घंटे तक की पूछताछ के बाद बुधवार को गिरफ्तार कर लिया था। ड्रग्स मामले में कैबिनेट मंत्री के दामाद की गिरफ्तारी से महाराष्ट्र की राजनीति में हड़कंप मच गया था।