Krupal Tumane

  • सांसद तुमाने ने संसद में उठाया मुद्दा

नागपुर. जिले में अगस्त में हुई बारिश के कारण किसानों को भारी नुकसान हुआ है. फसल पर कई बीमारियों के कारण किसान तकलीफ में आ गया है और उसे मदद की जरूरत है. रामटेक के सांसद कृपाल तुमाने ने संसद में मांग की कि नागपुर जिले में हुए नुकसान की समीक्षा की जानी चाहिए और केंद्र सरकार को किसानों की मदद करनी चाहिए.

तुमाने ने इससे पहले भी केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को पत्र लिखकर जिले में हुए नुकसान की जानकारी दी थी. उसी समय जिले में फसल क्षति के लिए केंद्र सरकार का ध्यान आकर्षित करने के लिए लोकसभा में नियम 377 के तहत मुआवजे का मुद्दा उठाया गया था.

तुमाने ने कहा कि जिले में लगभग पांच लाख हेक्टेयर में फसलें हैं, जिनमें से 1 लाख 22 हजार 222 हेक्टेयर में सोयाबीन, 90 हजार 337 हेक्टेयर में धान, 2 लाख 11 हजार 803 हेक्टेयर में कपास, खरीफ की फसलें, 50,000 हेक्टेयर में नारंगी और 15 हजार हेक्टेयर में मौसमी फसलें हैं. अगस्त में लगातार 15 दिनों तक बादल छाए रहने और भारी बारिश के कारण किसान खेती नहीं कर पाए.

सोयाबीन पर पीले मोज़ेक और वीविल ने 90 फीसदी सोयाबीन को नष्ट कर दी. धान की फसल 50 फीसदी तक प्रभावित हुई है. कृषि मंत्री रामटेक लोकसभा क्षेत्र में बारिश से हुए नुकसान की व्यक्तिगत रूप से समीक्षा करें और प्रभावित किसानों को केंद्र से वित्तीय सहायता के रूप में क्षतिपूर्ति करें. कृषि मंत्री ने स्थिति की समीक्षा की और प्रभावित किसानों की मदद करने का आश्वासन दिया है.