Section 144

नागपुर. शुक्रवार को जिले में होने जा रहे ग्राम पंचायत चुनाव के मद्देनजर ग्रामीण पुलिस ने कमर कस ली है. बुधवार शाम से ही प्रचार थमने के साथ ग्रामीण इलाकों में धारा 144 लागू कर दी गई है. आचार संहिता को ध्यान में रखते हुए पुलिस ने गश्त बढ़ा दी है. विशेष तौर पर चुनाव के पहले होने वाली बैठकों पर पुलिस की नजर है. एक स्थान पर 5 या 5 से अधिक लोग जमा नहीं हो सकते. एसपी राकेश ओला ने सभी थानेदारों को अपने क्षेत्र के अपराधियों और माहौल बिगाड़ने वालों के खिलाफ प्रतिबंधक कार्रवाई करने के निर्देश दिए है.

आदेश मिलते ही पुलिस काम में जुट गई और दर्जनों अपराधियों को प्रतिबंधक कार्रवाई के तहत हिरासत में ले लिया. वैसे इस चुनाव में संवेदनशील इलाके न के बराबर है. इसीलिए पुलिस का टेंशन भी कम है, लेकिन एसपी ओला कोई जोखिम नहीं उठाना चाहते है. हर जगह बंदोबस्त चाक-चौबंद किया गया है. गुरूवार शाम से ही पुलिस सभी मतदान केंद्रों और स्ट्रांग रूम की घेराबंदी कर लेगी.

थानेदारों को अलर्ट रहने के निर्देश

चुनाव के दौरान कहीं कोई अप्रिय घटना न हो इसके लिए सभी थानेदारों को अलर्ट रहने के निर्देश दिए गए हैं. हर छोटे-बड़े विवाद की जानकारी रखने के साथ ही खुफिया विभाग को अधिक सक्रिय रहने को कहा गया है.एसपी ओला और एडिशनल एसपी राहुल माकणीकर सहित आला अधिकारी हर एक गतिविधियों की जानकारी ले रहे हैं.

शहर सीमा से सटी 112 ग्राम पंचायतों के लिए पुलिस की ओर से 223 इमारतों में 383 पोलिंग बूथ का निर्माण किया जा रहा है़  इसके लिए 10 स्ट्रांग रूम भी बनाए गए है़ं  बंदोबस्त के लिए कुल 2 एसपी रैंक के अधिकारी, 6 डीवायएसपी, 23 पीआई, 69 एपीआई व पीएसआई, 611 पुलिस सिपाही, 239 होमगार्ड के साथ ही 2 एसआरपीएफ की प्लाटून भी तैनात रहेंगे़  चुनाव के लिए 42 जोन निर्माण किया गया है. 

चौबीस घंटे पेट्रोलिंग

इसके साथ ही पूरी चुनाव प्रक्रिया पर नजर रखने के लिए 44 पेट्रोलिंग दस्ते बनाए गए हैं. इन दस्तों का काम सभी ग्राम पंचायतों के क्षेत्रों में पेट्रोलिंग करना है. चुनाव अधिकारियों के साथ समन्वय बढ़ाया गया है कोई भी उम्मीदवार या पार्टी आचार संहिता का उल्लंघन न कर पाए इसके लिए खबरियों को काम पर लगाया गया है. अवैध शराब विक्रेताओं के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई तेज कर दी है.