जलकुंभी हटाने का टेंडर को मंजूरी

    पुणे.  स्थायी समिति ने पुणे शहर (Pune City) में नदियों और झीलों से जलकुंभी (Eichhornia) आधुनिक मशीनों द्वारा हटाने के लिए निविदाओं को मंजूरी दे दी है। इसके अनुसार नदी से जलकुंभी हटाने के लिए 50 लाख रुपये और नदी (River) से जलकुंभी को हटाने के लिए लगभग 98 लाख रुपये की राशि प्रदान की गई है। यह जानकारी स्थायी समिति के अध्यक्ष हेमंत रासने (Standing Committee Chairman Hemant Rasne) ने दी। 

     इस बारे में हेमंत रासने ने कहा कि रासायनिक पदार्थों, नदी या झील में छोड़े गए अनुपचारित कचरा, नालों से आने वाले प्रदूषित पानी के कारण नदी का प्राकृतिक संतुलन गड़बड़ा जाता है। यह जलकुंभी के विस्तार के लिए अनुकूल वातावरण बनाता है।  जलकुंभी  संक्रामक रोगों में प्रमुख भूमिका निभाती है। शहर में नदियों और झीलों में जलकुंभी का जलीय जीवन पर हानिकारक प्रभाव पड़ रहा है इसलिए नदी के किनारे रहने वाले लोगों को मच्छरों और कीड़ों से पीड़ित होना पड़ता है। 

    प्रदूषण कम करने के लिए उठाए जा रहे कई कदम

    नदी में प्रदूषण को कम करने के लिए नगर निगम द्वारा कई दीर्घकालिक उपाय किए जा रहे हैं। कीट नियंत्रण विभाग की ओर से हर साल आधुनिक मशीनरी का उपयोग कर जलकुंभी का उन्मूलन किया जाता है। स्थायी समिति ने आज इस वर्ष के लिए धन के प्रावधान को मंजूरी दे दी। 

    कोविड चिल्ड्रेन हॉस्पिटल के लिए पर्याप्त प्रावधान

    चिकित्सा विशेषज्ञों को डर है कि कोरोना वायरस संक्रमण की तीसरी लहर बच्चों के लिए अधिक जोखिम पैदा कर सकती है।  इस पृष्ठभूमि के चलते, पुणे नगर निगम विशेष देखभाल कर रहा है और बच्चों में कोविड के इलाज के लिए येरवडा में नगर निगम के राजीव गांधी अस्पताल में एक अस्पताल विकसित किया जा रहा है।  अध्यक्ष हेमंत रासने ने कहा कि अस्पताल में विभिन्न विकास कार्यों के लिए स्थायी समिति द्वारा लगभग 1 करोड़ 90 लाख रुपये की कुल तीन निविदाओं को मंजूरी दी गई है।  राजीव गांधी अस्पताल के अंदर रैंप राइजिंग, वाटरप्रूफिंग, प्लंबिंग, पेंटिंग और विभिन्न विकास कार्य किए जाएंगे।