vaccine
Representational Pic

  • मनपा प्रशासन ने तेज की गतिविधियां
  • भाजपा विधायक महेश लांडगे ने की मनपा आयुक्त से मुलाकात
  • 27 से 30 लाख है पिंपरी-चिंचवड़ की आबादी

पिंपरी. कोरोना महामारी (Corona epidemic) से बचाव करने वाला प्रतिबंधक टीका (vaccine) जल्द ही लाया जा रहा है. इस पृष्ठभूमि में पिंपरी चिंचवड़ (Pimpri Chinchwad) शहरवासियों को यह टीका मुफ्त में लगवाने की गतिविधियां तेज हो गई हैं. इस मसले पर मनपा के सत्तादल भाजपा के शहराध्यक्ष एवं विधायक महेश लांडगे  (MLA Mahesh Landge) ने शुक्रवार को मनपा आयुक्त श्रावण हार्डिकर (Shravan Hardikar) से मुलाकात की. उन्होंने नागरिकों को कोरोना का टीका मुफ्त में लगाने को लेकर उनसे चर्चा की. साथ ही इस मसले पर सर्वदलीय नेताओं, संबंधित अधिकारियों और पदाधिकारियों की बैठक बुलाने की मांग की है.

मनपा आयुक्त को सौंपा ज्ञापन

इस बारे में उन्होंने मनपा आयुक्त को एक ज्ञापन भी सौंपा है. इसमें उन्होंने कहा है कि पिंपरी चिंचवड़ मनपा एशिया द्वीप में सर्वाधिक विकसीनशील मनपा है. शहर के विकास में शहर के प्रत्येक नागरिक का योगदान है. ऐसे में उनके स्वास्थ्य की रक्षा करना हमारी जिम्मेदारी और कर्तव्य है. महामारी कोरोना से बचाने वाला टीका सभी नागरिकों को मुफ्त और प्राथमिकता से दिया जाना चाहिए. कोरोना के संक्रमण काल में दुनियाभर में सात जगहों पर प्रतिबंधक टीका का उत्पादन किया जा रहा है. केंद्र और राज्य सरकार टीकाकरण को लेकर हर स्तर पर नियोजन में जुटी है.

शहरवासियों को प्राथमिकता हमारी जिम्मेदारी

शहर के जनप्रतिनिधि के नाते हमारी जिम्मेदारी है कि टीकाकरण में शहरवासियों को प्राथमिकता मिले.पुणे, हैदराबाद, रशिया, इटली और अन्य जगहों पर टीके का उत्पादन करनेवाली कंपनियों से समन्वय साधकर शहरवासियों को तत्काल टीका उपलब्ध कराने को लेकर तत्काल फैसला करना जरूरी है. पिंपरी चिंचवड़ शहर की आबादी 27 से 30 लाख है. ऐसे में कोरोना प्रतिबंधक टीकाकरण का सूक्ष्म नियोजन करना होगा. महामारी के दूसरे दौर के संक्रमण का मुकाबला करने के लिए नागरिकों के स्वास्थ्य के हित के लिए नए 2021-2022 के सालाना बजट में प्रावधान रखकर मनपा के अस्पतालों में प्रभाग स्तर पर मुफ्त टीकाकरण के लिए टीके उपलब्ध कराए.

कॉमन मिनिमम प्रोग्राम तैयार करें

शहर में सभी पार्टी के जनप्रतिनिधियों, नगरसेवकों और गैर सरकारी संगठनों के प्रतिनिधियों को विश्वास में लेकर मुफ्त कोरोना प्रतिबंधक टीकाकरण के लिए एक ‘सामान्य न्यूनतम कार्यक्रम’ (कॉमन मिनिमम प्रोग्राम) बनाया किया जाना चाहिए.साथ ही इसे प्रभावी ढंग से लागू किया जाना चाहिए.शहर की आबादी और वैक्सीन की अनुमानित लागत को देखते हुए, इस पर लगभग 250-300 करोड़ रुपये खर्च होने की उम्मीद है. ऐसे में बजट में आवश्यक प्रावधान और यंत्रणा अभी से स्थापित किए जाने चाहिए.

प्रशासन और जनप्रतिनिधियों को वार्ड स्तर पर टीका उपलब्धता, वितरण की योजना बनानी चाहिए. दुनिया भर में वैक्सीन निर्माताओं को 27 से 30 लाख टीकों का समन्वय और बुकिंग करनी चाहिए. साथ ही, टीकाकरण अभियानों को प्राथमिकता के साथ कोरोना वारियर्स, सीनियर सिटिजंस, टीचर्स, चिल्ड्रन के साथ-साथ उम्र और बीमारी के अनुसार टीकाकरण की योजना बनाई जानी चाहिए. विधायक लांडगे ने मांग की है कि इस अभियान को लेकर हर हफ्ते एक समीक्षा बैठक की जाए।