नागपूर हेद्राबाद मार्गपर गोवंश तस्करी, 19, 55000  मुद्देमाल जब्त

    उमरी.  पांढरकवडा क्षेत्र के नागपुर-हैदराबाद मार्ग से बड़ी संख्या में मवेशियों की  कत्तल के लिए तस्करी की जाती है. इससे पहले भी पशु तस्करों के खिलाफ लगातार कार्रवाई कर पशु तस्करों को छोड़ा जा चुका है. फिर भी, पशु तस्कर गायों को वध के लिए हैदराबाद ले जाते हैं. इसलिए वरिष्ठ अधिकारियों ने पशु तस्करों के खिलाफ प्रभावी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं. तदनुसार, मवेशियों की तस्करी और परिवहन करने वाले वाहनों के बारे में जानकारी निकालने के लिए गोपनीय मुखबिर बोए गए थे.

    25 जून के तडके 04.45 बजे के दौरान सपोनी हेमराज कोली पांढरकवड़ा थाने में मौजूद थे. एक खुफीया के माध्यम से पता चला कि टाटा कंपनी का 10 व्हीलर ट्रक नंबर सीजी-15 ए-7417 मे अवैध रूप से मवेशियों को वध के लिए करंजी-पांढरकवड़ा मार्ग पर से हैद्राबाद  ले जा रहा था. ऐसी जानकारी सपोनी हेमराज कोली, को प्राप्त हुई थी. राजू सुरोशे,  सिद्धार्थ कांबले, सूरज, 2 पंचों के साथ, एक निजी वाहन में 4.54 बजे रवाना हुए. टाटा का 10 पहिया वाहन सीजी-15 A-7417 पांढरकवाड़ा से आदिलाबाद की ओर आते देखा गया. ट्रक चालक  को रुकने का इशारा किया तो उसने  अपने ट्रक को रोके बिना आदिलाबाद की ओर दौड़ पड़ा.

    पुलिस ने एक निजी वाहन से ट्रक का पीछा किया.  पुलिस टीम ने उनका पीछा किया लेकिन वह अंधेरे का फायदा उठाकर भाग गए. बाद में दो पंचो के सामने ट्रक की तलाशी की.उसमे छोटे-बडे बैल एक-दूसरे के पैरों के अंदर एक तंग रस्सी से बंधे हुए थे. 

    कुल 37 मवेशी पाये गए. कुल 19,55,000रुपये का माल  जब्त किया.मामला दर्ज किया. कारवाई को पुलिस अधीक्षक  दिलीप पाटिल-भुजबल, अपर पुलिस अधीक्षक  खंडेराव धरणे, पांढरकवडा के अनुमंडल पुलिस अधिकारी प्रदीप पाटिल, पुलिस निरीक्षक रामकृष्ण महले, सहायक पुलिस निरीक्षक हेमराज कोली, सिद्धार्थ कांबले  सूरज ने अंजाम दिया.