summer season
File Photo

    • बढ़ती जा रही गर्मी के कारण लोग हुए हलाकान

    अकोला. भीषण गर्मी का कहर लगातार जारी है, दिन प्रतिदिन तापमान बढ़ता ही जा रहा है. आज शहर का अधिकतम तापमान 44.2 डि.से. तथा न्यूनतम तापमान 29.8 डिसे दर्ज किया गया है. भीषण गर्मी से तपने लगा है शहर, धूप इतनी तेज है कि अब दोपहर के समय लोगों का बाहर निकलना बहुत ही कम हो गया है.

    इस भीषण तपन और गर्मी के कारण लोग जैसे हलाकान हो गए हैं. पिछले सप्ताह तक आवश्यक कार्यों को लेकर कुछ लोग सड़कों पर बाजारों में दिखाई दे जाते थे लेकिन अब स्थिति और अलग हो गयी है. दोपहर को सड़कों पर लोगों का निकलना बिलकुल ही कम हो गया है. दोपहर के समय अब सुनसान पड़ी रहती हैं सड़कें. 

    भीषण गर्मी से शहर प्रभावित

    इस समय इस भीषण गर्मी के कारण पूरा शहर तथा जिला प्रभावित हुआ है. कुछ दिनों पहले तक शहर के विभिन्न क्षेत्रों में सड़कों पर सब्जियों तथा अन्य वस्तुओं की छोटी छोटी दूकानें देखी जा सकती थीं. लेकिन अब दोपहर 1 बजे के बाद सड़कों पर लगी हुई दूकानें बंद कर दी जाती हैं. इसके बाद शाम 6 बजे के बाद ही दूकानदार वापस दूकानें लगाते हैं. क्योंकि दोपहर के समय तपते शहर में लोग बाहर नहीं निकल रहे हैं. 

    कूलर, एसी भी काम नहीं कर पा रहे हैं

    पिछले दो दिनों से इतनी भीषण तपन और गर्मी है कि डेजर्ट कूलर तथा एअर कंडिशनर से भी लोगों को अब राहत महसूस नहीं हो पा रही है. शहर में संपन्न वर्ग के लोगों द्वारा एअर कंडिशनर का उपयोग काफी बढ़ गया है. अन्य लोग अधिकतर कूलर का उपयोग कर रहे हैं. लेकिन पिछले दो दिनों से ऐसा लग रहा है कि जैसे एअर कंडिशनर और कूलर भी काम नहीं कर पा रहे हैं. भीषण गर्मी के कारण लोगों को इतनी बेचैनी होने लगी है. लेकिन लोगों को भीषण तपन और गर्मी से राहत नहीं मिल पा रही है. ऐसा लगता है जैसे लोग इस भीषण गर्मी से अब उकता गए हैं. 

    अब बिजली का बिल भी अधिक आने लगा

    इन भीषण गर्मी के दिनों में सभी लोग अपने अपने बजट के अनुसार कूलर, एअर कंडिशनर तथा पंखों का उपयोग कर रहे हैं. भीषण गर्मी के कारण इन सभी उपकरणों का उपयोग काफी बढ़ गया है. इस कारण अब बिजली के बिल भी नियमित बिलों से अधिक आ रहे हैं. जिन लोगों ने अपने घरों में सौर उर्जा उपकरण बैठाए हैं उनके बिल तो ठीक हैं लेकिन अन्य उपभोक्ताओं को अब महावितरण द्वारा दिए गए बिल भरने में भी मासिक बजट बिगड़ रहा है.

    इस वर्ष एअर कंडिशनर तथा कूलर की बिक्री भी जमकर हुई है. शहर में बनाए गए कूलर के साथ साथ अन्य कंपनियों के कूलर भी बहुत बिके हैं. बड़ी संख्या में लोग पानी के लिए इलेक्ट्रिक पम्पों पर निर्भर रहते हैं और कूलर के साथ साथ नियमित रूप से भी गर्मी के कारण पानी का उपयोग बढ़ गया है, इस कारण भी बिजली अधिक खर्च हो रही है. यह उल्लेखनीय है कि बिजली का बिल समय पर न भरे जाने के कारण महावितरण द्वारा कार्रवाई शुरू की गयी है.