तहसीलदार के कैबीन को ठोंका ताला, पूर्व कृषि मंत्री बोंडे का आंदोलन

    मोर्शी. मोर्शी में वर्ष 2018-19 में अतिवृष्टि, ओलावृष्टि व अकाल प्रभावितों की सूची से अलग रखे गए किसानों को ब्याज सहित मुआवजा दिया, तहसीलदार को तत्काल निलंबित किया जाए, संजय गांधी निराधार योजना का लाभ ऐसी मांगों के लिए भाजपा किसान मोर्चा के कार्यकर्ता मोर्शी तहसील कार्यालय पहुंचा. लेकिन यहां तहसीलदार उपस्थित नहीं रहने से मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष डा. अनिल बोंडे ने तहसीलदार के कक्ष को ताला ठोक दिया. यहां कक्ष के दरवाजे पर ही निवेदन चिपका दिया. 

    गडबडियों की हो जांच

    पूर्व कृषि मंत्री डा. अनिल बोंडे ने कहा कि नुकसान के अनुदान की सूची बैंक में दिये जाने की वजह से अपने बेहद नजदिकी लोगों के खाते में रकम जमा करायी गई. इस मामले में काफी आर्थिक गडबडियां की गई.

    जिसकी तत्काल जांच की जानी चाहिए. डा. बोंडे के अनुसार हिवरखेड की महाराष्ट्र बैंक में किसानों के नाम पर कुल 4 लाख 98 हजार 960 रूपये धनादेश के जरिये जमा कराये गए है. पटवारी की गैरहाजरी में लाभार्थियों की सूची तैयार की गई थी. जिसमें किसान नहीं रहने वाले कई लोगों के नाम भी बतौर लाभार्थी शामिल किये गये थे. पूरे मामले में भारी गडबडी हुई है. 

    इस समय भाजपा किसान मोर्चा के अशोक ठाकरे, सुनील सोमवंशी, प्रवीण राउत, देवकुमार बुरंगे, अजय आगरकर, ज्योतीप्रसाद मालवीय, आप्पा गेडाम, हरिदास गेडाम, नितीन राउत, निलेश शिरभाते, अशोक ठाकरे, विलास आखाडे, रवि मेटकर, ढाकुलकर काका, श्रीकांत मांडवे, आशिष वानखडे, सतीश लेकुरवाले, शशिकांत खेडेकार, सुवर्णा साठवणे, अनिता लांजेवार उपस्थित थे.