jayantpatil

    औरंगाबाद. औरंगाबाद (Aurangabad) सहित पूरे मराठवाड़ा के कई जिलों के छोटे बांधों और तालाबों को पेयजल आपूर्ति (Drinking Water Supply) करनेवाले जायकवाडी बांध के दाएं और  बाएं नहरों की मरम्मत और उसमें सुधार करने जलसंपदा विभाग (Water Resources Department) की ओर से डीपीआर बनाने का काम जारी है।

    नवंबर के आखिरी  तक डीपीआर तैयार होते ही नहरों के मरम्मत और  उसकी वहन क्षमता में सुधार करने के कार्य के लिए विश्व बैंक से कर्ज के लिए बैंक को प्रस्ताव भेजा  जाएगा। नहरों के मरम्मत पर कई हजार करोड़  खर्च अपेक्षित है। यह जानकारी राज्य के जलसंपदा मंत्री (Water Resources Minister) जयंत पाटिल (Jayant Patil) ने यहां दी।

    नहरों की वहन क्षमता कमजोर 

    रविवार की सुबह उन्होंने जिलाधिकारी कार्यालय में जलसंपदा विभाग के आला अधिकारियों और  जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक की। बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत में जयंत पाटिल ने बताया कि जायकवाडी बांध के दाएं और  बाएं नहरों  के  मरम्मत  की सख्त जरुरत है। जायकवाडी बांध में पानी होने के बावजूद यहां से  जालना और  परभणी के छोटे बांध और  तालाबों को पानी पहुंचने में कई समस्याएं निर्माण हो रही है। उसका मुख्य कारण नहरों की वहन क्षमता कमजोर होना है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार चाहती है कि हर किसान को बड़ी आसानी से पानी मिले। एक सवाल के जवाब में जयंत पाटिल ने बताया कि वर्तमान में जायकवाडी बांध में 30 प्रतिशत गहरा कीचड़ जमा है। कीचड़ निकाला गया तो जायकवाडी बांध में कई टीएमसी पानी का स्टॉक बढ़ेगा। 

    आउटसोर्सिंग के माध्यम से भरे जाएंगे विविध  पद 

    जलसंपदा विभाग में सैकडों पद खाली होने को लेकर पूछे गए सवाल पर जयंत पाटिल ने कहा कि जलसंपदा मंत्रालय  ने रिक्त पदों को भरने के लिए पहल शुरु की है। आला अधिकारियों के पद स्थायी रुप से भरे जाएंंगे। परंतु, क्लास 3 और  4 के पद आउट सोर्सिंग के माध्यम से भरे जाएंगे। आउटसोर्सिंग की भरती प्रक्रिया जल्द शुरु की जाएगी। विशेषकर, छोटे बांधों से पानी वितरण का जिम्मा भी आउटसोर्सिंग द्वारा करने पर जलसंपदा विभाग विचार कर रहा है। कोविड के चलते करों की वसूली को बड़े पैमाने पर ब्रेक लगा  है। जिससे कई विकास कार्यों को गति नहीं मिल पा रही है। परंतु, वर्तमान में जो कार्य जलसंपदा मंत्रालय द्वारा जारी है, उन विभागों को वित्त मंत्रालय द्वारा निधि की कमी नहीं हो रही है।  

    जल्द मिलेंगे तेलंगना सीएम से 

    मराठवाडा के बांधों से बड़े पैमाने पर पानी तेलंगना के बांधों में बह रहा है। यह पानी रोकने के लिए सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों को लेकर पूछे गए सवाल पर जलसंपदा मंत्री जयंत पाटिल ने बताया कि मराठवाडा का  पानी तेलंगाना  के बांधों में जाने से रोकने के लिए जल्द मैं और राज्य के सार्वजनिक निर्माण मंत्री अशोक चव्हाण  तेलंगाना के सीएम और  जलसंपदा  मंत्री को मिलकर उसका हल निकालेंगे। हाल ही में जलसंपदा विभाग के अधिकारियों ने तेलंगना के मुख्यमंत्री से मिलने का प्रयास किया, परंतु,  मुलाकात नहीं हो पाई।