Court
Representative Image

Loading

गोंदिया. जिला न्यायालय-2 व अतिरिक्त सत्र न्यायालय ने बड़े भाई की धारदार हथियार से हत्या करने के आरोप में छोटे भाई को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. सुनवाई जिला न्यायाधीश-2 व अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश एन.डी. खोसे ने की है. आरोपी का नाम सड़क अर्जुनी तहसील सौंदड़ निवासी भरत मदनकर (62) है. सौंदड़ निवासी आरोपी भरत मदनकर मृतक पंढरी धोंडू मदनकर का सगा भाई था. आरोपी और मृतक के खेत का बंटवारा हो गया था. एक-दूसरे से सटे हुए थे.

मृतक पंढरी (72) कभी-कभी शराब पीकर घर आने पर आरोपी पर गुस्सा हो जाता था. आरोपी पंढरी से नाराज था. उससे बात नहीं करता था. 5 जून 2019 को आरोपी ने पुरानी रंजिश के चलते पंढरी मदनकर को खेत में अकेला पाकर धारदार हथियार से सिर पर वार कर हत्या कर दी. दोपहर 2.30 बजे के बीच पंढरी की पत्नी सुमित्रा मदनकर खेत पर गई थीं. उसने इस घटना को देखा.

पंढरी को खेत की झोपड़ी में जमीन पर मृत पाया गया. इस संबंध में डुग्गीपार पुलिस ने आरोपी के खिलाफ भादंवि की धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया था. जांच पुलिस निरीक्षक विजय पवार ने की. पुलिस अधीक्षक निखिल पिंगले के मार्गदर्शन और पुलिस निरीक्षक विजय पवार की देखरेख में हवलदार रविशंकर चौधरी ने न्यायालयीन कार्यवाही की पैरवी की है.

11 गवाहों से की गई पूछताछ 

आरोपी के खिलाफ दोष सिद्ध करने जिला सरकारी वकील व सरकारी अभियोजक महेश एस. चंदवानी ने अदालत के समक्ष कुल 11 गवाहों की गवाही दर्ज कराई. आरोपी के वकील और सरकारी वकील महेश चंदवानी की बहस के बाद दस्तावेजी साक्ष्य, मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर जिला न्यायाधीश-2 व अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश एन. डी. खोसे ने आरोपी के खिलाफ सरकारी पक्ष की गवाही को सही माना और आरोपी को धारा 302 के तहत आजीवन सश्रम कारावास और 2 हजार रु. जुर्माने की सजा सुनाई. जुर्माना अदा न करने पर 3 माह का अतिरिक्त कारावास की सजा सुनाई.