abhijeet raut

  • जिलाधिकारी अभिजीत राउत ने किया अधिकारियों का मार्गदर्शन

जलगांव. दीपावली की तरह ही लोग नए वर्ष का जश्न भी इस बार नहीं मना पाएंगे। इस साल नए वर्ष (New year) के स्वागत करते समय न आतिशबाजी होगी, न ही होटल में पार्टी। जिलाधिकारी अभिजीत राउत (Collector Abhijeet Raut), एसपी प्रवीण मुंडे (SP Praveen Munde) ने कोरोना को लेकर बैठक की और अधिकारियों का मार्गदर्शन किया। दोनों ने नागरिकों को सतर्कता बरतने का आह्वान किया है।

हमेशा की तरह इस बार नये साल को मनाया नहीं जाएगा। पूर्व संध्या पर भी आतिशबाजी पर बैन रहेगा और देर रात तक होटल शुरू रखने वालों पर कार्रवाई होगी। इसके साथ ही होटल, रिसोर्ट और फार्म हाउस पार्टी पर भी रोक लगाई गयी है।

देर रात जश्न मनाने वालों पर होगी कार्रवाई 

थर्टी फर्स्ट मनाने को लेकर राज्य सरकार ने अलग से गाइडलाइन जारी की हुई है। कोरोना की दूसरी लहर की आशंकाओं की ख़बरें आते ही महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने लोगों को वाइरस से बचने और दूसरों को बचाने का आह्वान किया था। इसे देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा देर रात तक न्यू ईयर का जश्न मनाने की तैयारियां करने वालों पर कार्रवाई का इशारा भी दिया है।

जलगांव सहित जिले के सभी शहरों में इस बार न्यू ईयर सेलीब्रेशन पर रोक लगी हुई है। स्वास्थ्य विभाग ने भी कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने और वैक्सीनेशन की तैयारियों को लेकर बैठक की। इस बैठक के बाद इस विभाग द्वारा भी इस बार न्यू ईयर का जश्न घर पर रहकर ही मनाए जाने का आह्वान लोगों से किया है।  पुलिस, स्वास्थ्य और जिला प्रशासन के इस मैसेज के बाद साफ हो गया हैं कि इस बार न्यू ईयर का जश्न फीका होने वाला है। नए साल पर भी आतिशबाजी से बचते हुए, न्यू ईयर पर भीड़भाड़ से बचने व घरों पर रहकर परिवार के साथ नये वर्ष का स्वागत करने पर जोर दिया है।

सड़कें होंगी वीरान

महानगर पालिका क्षेत्र के सभी पुलिस स्टेशनों की सीमाओं के भीतर कर्फ्यू को कड़ा किया जाएगा। रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक सड़कों पर पुलिस की कड़ी निगरानी होगी। आवश्यक सेवाओं को छोड़कर अन्य को रोक दिया जाएगा। कानून का उल्लंघन करने पर कानूनी कार्रवाई का सामना करना होगा। जिसके चलते इस साल नव के स्वागत के समय सड़कें वीरान रहेंगी।

नाइट शिफ्ट कर्मियों का बदला समय

एमआईडीसी या अन्य स्थानों पर नाइट शिफ्ट के कर्मचारियों को काम करने के लिए रात में ग्यारह बजे से पहले बुलाएं और अन्य शिफ़्ट के कर्मियों को रात ग्यारह बजे से पहले घर जाने दें। इस तरह के निर्देश सभी MIDC उद्यमियों को जारी किए गए हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि नाइट शिफ्ट करने वाले कर्मियों को आधी रात के बाद घर लौटने में कोई कठिनाई का सामना न करना पड़े। इसलिए प्रशासन ने समय में परिवर्तन के आदेश दिए हैं।

14 हजार बेड आरक्षित

कोरोना की दूसरी लहर की आशंका के बावजूद जिला प्रशासन और स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह तैयार है। ज़िले में 14 हजार 500 बेड कोरोना प्रभावित मरीजों के लिए आरक्षित रखे गए हैं। जनवरी 2021 के अंतिम सप्ताह में जिले को कोरोना वैक्सीन मिलेगी। इस लिए ज़िला प्रशासन ने नागरिकों को सावधानी बरतने की अपील की है।

प्रशासन द्वारा बार -बार कोरोना से बचने के लिए जारी गाइडलाइनों की सख्ती से पालन करने का आह्वान जनता से किया जा रहा है। सामाजिक  संगठनों का भी कहना है कि कोरोना महामारी के समय में स्वास्थ्य को सर्वोपरि रखते हुए नव वर्ष का जश्न अपने घरों में ही मनाया जाए।

-अभिजीत राउत, जिलाधिकारी