Ajit pawar

    कोल्हापुर. केंद्र सरकार (Central Government) से उपलब्ध होने वाली वैक्सीन (Vaccine) लोगों को दी जा रही है। सिरम और भारत बायोटेक इन दोनों कंपनियों ने वैक्सीन का उत्पाद बढ़ा दिया है। वैक्सीन बड़े पैमाने पर उपलब्ध होगी और 31 अगस्त तक 18 वर्ष आयु से अधिक राज्य में सभी लोगों का टीकाकरण (Vaccination) पूरा करने का  लक्ष्य (Target) है, ऐसी जानकारी उपमुख्यमंत्री अजीत पवार (Deputy Chief Minister Ajit Pawar) ने दी। 

    ब्लैक फंगस के मरीजों को सरकारी अस्पताल एवं महात्मा फुले योजना के तहत लाभ लेनेवाले अस्पतालों में मुफ्त इलाज किए जा रहे हैं। निजी अस्पतालों में भी बिल की कैपिंग किया गया है, अब इसी आधार पर निजी अस्पताल बिल लें, ऐसी सख्त सूचना उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने दी।

    कोल्हापुर में अनलॉक नहीं, सख्त प्रतिबंधों से गुजरना होगा 

    कोल्हापुर जिले में व्यवसाय, व्यापार शुरू करने के लिए परमिशन दें, इस मांग को लेकर व्यापारी संगठन सड़क पर उतरकर आंदोलन कर रहे हैं। क्या उन्हें परमिशन दी जाएगी? इस सवाल पर   अजीत पवार ने कहा कि कोरोना का बढ़ता संक्रमण रोकने के लिए इस स्थिति में कोई भी प्रतिबंध नहीं हटाएं जाएंगे। अजीत पवार ने कहा कि कोरोना के नियम न पालनेवालों पर कड़ी कार्रवाई करने की सूचना जिला प्रशासन एवं पुलिस डिपार्टमेंट को भी दिए जा चुके हैं। कोल्हापुर जिले के प्रलंबित प्रश्नों की लिस्ट जिलाधिकारी ने सौंपी है। मुंबई में वापस लौटने के बाद इन प्रश्नों के बारे में निर्णय लिया जाएगा ऐसा आश्वासन भी उन्होंने दिया। सरकारी कर्मचारी भर्ती का प्रश्न तत्काल हल किया जाएगा ऐसा उन्होंने कहा। मराठा आरक्षण के मुद्दे पर राज्य सरकार सभी प्रयास कर रही है। न्यायालयीन अड़चनों के कारण विलंब हो रहा है। आरक्षण के बारे में केंद्र सरकार को ठोस कदम उठाने की जरूरत है, उसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर फॉलोअप शुरू है।

    चुनाव लड़ने के बारे में निर्णय लेने के अधिकार वरिष्ठ नेताओं के पास

    राज्य में चुनावों के बारे में अंतिम निर्णय लेने के अधिकार कांग्रेस की नेता सोनिया गांधी, एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार और शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे के पास ही है, इसलिए कोई कुछ भी कहे, वह बात इतना मायने नहीं रखती ऐसा उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने कहा। अजीत पवार के इस बात से कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष नाना पटोले ने अपने बलबूते पर चुनाव लड़ने की बात को सीधे -सीधे अजीत पवार ने नजर अंदाज कर दिया और उनकी यह बात कोई मायने नहीं रखती ऐसा उन्होंने जताया।