Will-take-a-decision-keeping-in-mind-the-honor-of-Uddhav-Thackeray,-Deputy-CM-Devendra-Fadnavis-on-Metro-car-shed-issue
Photo: @ANI/ Twitter

    मुंबई: बुधवार को दशहरा रैली (Dussehra Rally) के मौके पर शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) और सीएम एकनाथ शिंदे (CM Eknath Shinde) ने अपनी सभाओं में जोरदार भाषण दिया। हालांकि शिंदे गुट के साथ राज्य में सरकार का गठन करने वाली बीजेपी (BJP) ने शिंदे की रैली को उद्धव ठाकरे के मुकाबले हिट बताया है। डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने उद्धव ठाकरे के भाषण पर तंज कसते हुए कहा कि अब ठाकरे को अपना स्क्रिप्ट राइटर बदल लेना चाहिए। हालांकि उन्होंने कहा कि वे रोने-धोने वाले भाषण पर अपनी प्रतिक्रिया नहीं देना चाहते हैं। 

    देवेन्द्र फडणवीस ने दावा किया कि शिंदे की रैली में उद्धव ठाकरे की रैली से ज्यादा भीड़ थी। ऐसे में यह साबित हो गया है कि असली शिवसेना एकनाथ शिंदे की है। देवेंद्र फडणवीस ने यह भी कहा कि एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में शिवसेना और बीजेपी का भगवा गठबंधन आगामी विधानसभा चुनाव में फहराएगा।

    नाना पटोले का एकनाथ शिंदे पर निशाना

    प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि सीएम एकनाथ शिंदे ने अपने भाषण में बीजेपी द्वारा लिखी गई स्क्रिप्ट पढ़ी है। उन्होंने कहा कि शिंदे अपने गुट की बात करने की जगह बीजेपी और आरएसएस का गुणगान करने में लगे हुए थे। नाना पटोले ने आरोप लगाया कि शिंदे की रैली में भाड़े की भीड़ जुटाई गई थी। उन्होंने कहा कि कई लोग शिंदे का भाषण सुने बिना ही वहां से चले गए। पटोले ने कहा कि एकनाथ शिंदे का विश्वासघात उनके और शिवसेना का अंदरूनी मामला है, लेकिन हम यह बर्दाश्त नहीं करेंगे कि एकनाथ शिंदे और उनके समर्थक मंत्री और विधायक बगावत के पाप को छुपाने के लिए बार-बार कांग्रेस की आलोचना करे।

    शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे की सभा में शिवसैनिक खुद आए थे, जबकि बीकेसी की सभा में किराए के लोग बुलाए गए थे। इससे साफ है कि असली दशहरा रैली शिवाजी पार्क में हुई, जबकि बीकेसी में शिंदे गुट ने एक इवेंट आयोजित किया था।

    -सचिन अहीर, शिवसेना विधायक