udhaav-koshiyari

    मुंबई. सुबह कि बड़ी खबर के अनुसार महाराष्ट्र कि उद्धव सरकार (Maharashtra Uddhav Thackeray Goverment) एक बार फिर मुश्किलों से घिर गयी है। दरअसल महाराष्ट्र में BMC कर्मचारियों के लिए शुरू की गई आश्रय योजना को लेकर अब महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) ने शिवसेना को बड़ा झटका देते हुए BMC की “आश्रय योजना” (Ashray Yojana) की जांच करने के अपने आदेश दिए हैं। 

    इतना ही नहीं राज्यपाल ने इस मामले में महाराष्ट्र के लोकायुक्त को जांच के आदेश दिए हैं। इस पर BJP का आरोप है कि 1 हज़ार 800 करोड़ का घोटाला BMC की आश्रय योजना में हुआ है। 

    BMC ‘आश्रय योजना’ की होगी जांच 

    घटना के अनुसार BMC के “आश्रय योजना” को लेकर BJP ने आरोप लगाया कि CVC (central vigilance commission) नियमों का भयंकर उल्लंघन हुआ है। दरअसल इसमें नियम के मुताबिक, अगर किसी टेंडर में कोई एक ही पार्टिसिपेशन हिस्सा लेता है तो टेंडर वापस बुलाना चाहिए लेकिन ऐसा नहीं हुआ है। बता दें कि आश्रय योजना के तहत उद्धव सरकार बीएमसी (BMC) कर्मचारियों के लिए घर बना रही थी।

    लगा 1800 करोड़ रुपये के घोटाले का आरोप

    इधर BJP का आरोप है कि BMC और शिवसेना ने 1800 करोड़ रुपये का व्यापक घोटाला किया है। इसके चलते अब BJP ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलकर इस मामले की शिकायत की थी और लोकायुक्त से पूरे मामले की जांच की मांग की गई थी। जिसके चलते अब राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने  BMC की “आश्रय योजना” (Ashray Yojana) की जांच करने के अपने आदेश भी दे दिए हैं।