मुंबई: महिला ने आवारा कुत्तों को खिलाया खाना, लगा 8 लाख का जुर्माना, वजह जानकर उड़ जाएंगे होश

    मुंबई: सपनो की नगरी कही जाने वाली मुंबई से एक होश उड़ाने वाली खबर सामने आई है। आपको बता दें कि यहां एक महिला के ऊपर 8 लाख का जुर्माना लगाया गया है। जी हां और यह जुर्माना किसी क्राइम के लिए नहीं बल्कि आवारा बेजुबान कुत्तों को खाना खिलाने से लगा है। आइए जानते है पूरी खबर क्या है… 

    जी हां दरअसल महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई से एक बहुत ही हैरान करने वाला मामला सामने आया है। आपको बता दें कि युवती का कसूर सिर्फ इतना था कि उसने आवारा कुत्ते को खाना खिलाया था। बता दें कि यह दयालु महिला नवी मुंबई के एक हाउसिंग कॉम्प्लेक्स में रहती है। 

    रेजिडेंशियल सोसाइटी ने लगाया जुर्माना 

    नवी मुंबई के हाउसिंग कॉम्पलेक्स में रहने वाली अंशु सिंह ने बताया कि उन पर 8 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है। अंशु सिंह ने बताया कि रेजिडेंशियल सोसायटी के मैनेजमेंट ने उन पर यह जुर्माना आवारा कुत्तों को खाना खिलाने को लेकर लगाया है। दरअसल अंशु सिंह जिस सोसाइटी में रहती हैं, उस रेजिडेंशियल कॉम्प्लेक्स में 40 से भी ज्यादा इमारते हैं।

    इस वजह से लगा जुर्माना

    इस बारे में बात करते हुए अंशु सिंह ने बताया कि उन पर रोजाना के हिसाब से 5,000 रुपये का जुर्माना लगाया गया है। उन्होंने बताया कि हाउसिंग सोसायटी परिसर के अंदर कुत्तों को खाना खिलाने पर यह जुर्माना लगा है।

    उन्हें बताया गया है कि सोसाइटी के अंदर गंदगी फैलाने की वजह से उन पर जुर्माना लगाया गया है। उन्होंने बताया कि उन पर जुलाई 2021 से अब तक हर रोज के 5000 रुपये के हिसाब से जुर्माना लगाने की बात कही गई है। वाकई में यह जानकर बेहद हैरानी होती है कि इस चकाचौंध के बीच हम इतने निर्दयी कैसे हो सकते है। 

    ‘कुत्ते सोसाइटी के अंदर करते हैं गंदगी’

    अंशु सिंह ने मीडिया से बातचीत में बताया कि सोसाइटी के अंदर कई आवारा कुत्ते घूमते दिखते हैं। इतना ही नहीं बल्कि उनके अलावा एक अन्य महिला पर छह लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है। एक अन्य महिला ने बताया कि सोसायटी के वॉचमैन उन पर ध्यान रखते हैं, जो आवारा कुत्तों को खाना खिलाते हैं और उनका नाम नोटकर मैनेजिंग कमेटी को दे देते हैं।

    फिर वह जुर्माना लगाते हैं। हाउसिंग कॉम्प्लेक्स की सचिव ने बताया कि स्वच्छता की वजह से इस तरह के नियम बनाए गए हैं, क्योंकि कुत्ते पार्किंग और अन्य जगहों पर गंदगी करते हैं। जहां स्वच्छता बेहद जरुरी है ठीक वैसे ही बेजुबानों को खाना देना भी महत्वपूर्ण है। परफेक्शन के चक्कर में हमारी इंसानियत कही खो सी जा रही है।